कोराेना का कहर / मुंगावली में पहला पाॅजिटिव मिला, संपर्क में आए 20 की सैंपलिंग, 18 जून के बाद ये 44वां संक्रमित

X

  • मुंगावली के सरकारी डॉक्टर, स्टाफ सहित संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए लोगों की सैंपलिंग

दैनिक भास्कर

Jun 30, 2020, 04:00 AM IST

अशोकनगर. 18 जून को जिले में कोरोना पॉजिटिव निकले युवक के बाद सोमवार को मुंगावली में पहला पॉजिटिव मरीज मिला। संक्रमित व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ होने पर भोपाल रैफर किया गया था, जांच में व्यक्ति पॉजिटिव निकला। जिले में अब तक जो 43 कोरोना पॉजिटिव निकले, उसमें ये पहला व्यक्ति है जिसमें कोरोना के पूरे लक्षण हैं। युवक का इलाज करने वाले मुंगावली के डॉक्टर, स्टॉफ सहित संक्रमित युवक के परिजनों के सैम्पल लेकर क्वारेंटाइन किया गया है। जिले में पॉजिटिव मरीजों की संख्या 44 हो गई है। 
कोरोना मुक्त हुए जिले में एक बार फिर से सोमवार को भोपाल से रिपोर्ट आने के बाद खलबली मच गई। मुंगावली के अजीज कॉलोनी में सब्जी का आढ़तिया 4 दिन से बीमार चल रहा था। गले में दर्द, हल्का बुखार और सांस लेने में तकलीफ होने पर संबंधित व्यक्ति ने डा. अमित आर्य को दिखाया था। जहां मरीज की स्थिति देखते हुए उसको भोपाल रैफर किया गया। सोमवार को भोपाल रैफर किए गए युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव निकली। रिपोर्ट आने के बाद मोहल्ले को कंटेनमेंट जोन बनाते हुए 20 लोगों की सैम्पलिंग की गई। वहीं डा. आर्य के साथ उनके परिवार, स्टॉफ और संक्रमित व्यक्ति के 11 परिजनों के सैम्पल लेकर सभी को क्वारेंटाइन किया गया है।

हमारे यहां लापरवाही और अनदेखी लगातार जारी
जिले में लंबे समय से कोरोना संक्रमित न निकलने की वजह से लोगों में कोरोना को लेकर जागरुकता खत्म सी हो गई है। जिला मुख्यालय सहित अन्य तहसीलों में 70 फीसदी लोग मास्क लगाना भूल गए हैं। वहीं सैनिटाइजर का उपयोग अब गिने चुने लोग ही कर रहे हैं।

अब तक 42 पॉजिटिव ठीक हुए
भोपाल में जो युवक कोरोना पॉजिटिव निकला है उसमें पहली बार कोरोना के लक्षण दिखाई दिए हैं। अब तक जो मामले सामने आए थे उनमें संक्रमित लोगों में लक्षण दिखाई नहीं दिए। जिले में मुंगावली में सोमवार को मिले कोरोना पॉजिटिव को मिलाकर 44 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें से एक महिला की भोपाल में मौत हो चुकी है जबकि 42 लोग ठीक होकर घर लौट चुके हैं।

शादी विवाह के साथ धरना प्रदर्शन में भी भूले सोशल डिस्टेंसिंग, इससे खतरा
सोमवार को जिले में बड़ी संख्या में शादियां हुई। इनमें सैकड़ों की संख्या में लोग एकत्रित हुए। यही स्थिति धरना, प्रदर्शन राजनैतिक कार्यक्रमों में भी देखी जा रही है। यह अनदेखी और लापरवाही से कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।

हिस्ट्री पूछी तो परिजनों ने बताया कहीं बाहर नहीं गए
जब इस संबंध में भोपाल में संक्रमित मिले युवक के परिजनों से प्रशासन ने कॉन्ट्रेक्ट हिस्ट्री पूछी तो उन्होंने बताया कि वे इन दिनों में कहीं भी बाहर नहीं गए। परिजनों की बात के मुताबिक अगर संक्रमित युवक कहीं बाहर नहीं गया तो संक्रमण मुंगावली से फैला है जो नगर वासियों के लिए आने वाले समय में मुसीबत की वजह बन सकता है।
सैम्पलिंग कम होने की वजह से हो सकता है बड़ा विस्फोट
जिले में सैम्पलिंग की स्थिति बहुत ही दयनीय है। 19 जून को जिले में कुल 2034 लोगों की सैम्पलिंग की गई थी। वहीं 11 दिन बाद जब हमने पड़ताल की तो 2137 लोगों की सैम्पलिंग करना पाया गया। यानी 11 दिनों में मात्र 103 लोगों की सैम्पलिंग हुई। जबकि जिले में हर दिन 500 से अधिक लोगों का आवागमन दूसरे शहरों में हो रहा है। जिले की आबादी करीब 8.5 लाख है। इस स्थिति में एक दिन में औसत 10 लोगों की जांच खुद विभाग की बड़ी लापरवाही दिखा रहा है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना