पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौत के आंकड़ों में अंतर:रिकॉर्ड में सिर्फ 26 की कोरोना से मौत, हकीकत: चार विभागों में 32 कर्मचारियों ने तोड़ा दम

अशोकनगर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जब सरकारी कर्मचारियों को स्वास्थ्य विभाग नहीं मान रहा तो आम लोगों की पुष्टि होना असंभव
  • 3 माह में नपा ने 28 को जारी किए मृत्यु प्रमाण पत्र

कोरोना से मरने वाले लोगों के आंकड़ों में स्वास्थ्य विभाग सुधार करने को तैयार नहीं है। कई बार आवाज उठाने के बाद भी स्वास्थ्य विभाग पिछले 1 साल में अब तक सिर्फ 26 लोगों की कोरोना से मौत मान रहा है। हकीकत जानने के लिए भास्कर में शिक्षा, स्वास्थ्य, पंचायत और राजस्व सिर्फ चार विभागों से जानकारी जुटाई तो 32 कर्मचारियों की मौत कोरोना से होने की बात सामने आई। विभागीय अधिकारियों ने मृत कर्मचारियों को कोरोना से मौत होना मानते हुए विभागीय स्तर पर इसकी एंट्री भी कर ली है। बावजूद इसके स्वास्थ्य विभाग ने अब भी इनमें से कई कर्मचारियों की अब तक कोरोना से मौत होने की पुष्टि नहीं की। सरकारी विभागों में सबसे ज्यादा नुकसान शिक्षा विभाग को हुआ।

शिक्षकों से लेकर बाबू व अन्य पदों पर पदस्थ शिक्षा विभाग के 26 कर्मचारियों की विभाग ने कोरोना से मौत होना मानी। इसके अलावा जिले के 2 पटवारी, 1 रोजगार सहायक सहित स्वास्थ्य विभाग के 3 कर्मचारियों की मौत कोरोना के चलते हो चुकी है। इन आंकड़ों को ही जोड़ा जाए तो भी मौत का आंकड़ा 32 पर पहुंच गया।

चार सरकारी विभागों ने बताई स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों की हकीकत
1. शिक्षा विभाग: 24 शिक्षक एवं 2 भृत्य की मौत, 21 को दी राशि

  • शिक्षा विभाग में सबसे ज्यादा 26 लोगों की कोरोना के चलते मौत हुई है। जिनमें 2 से 3 लोगों की मौत पिछले साल कोरोना में हुई थी। डीईओ आदित्य नारायण मिश्रा ने बताया कि 26 लोगों की मौत कोरोना के कारण हुई है, जिनमें से अनुग्रह राशि जो दी जाती है वो 21 लोगों को दी जा चुकी है। शेष लोगों को अनुग्रह राशि न मिलने का कारण उनकी दो-दो पत्नी होना, नाम गलत होना एवं खाते न खुलना है।

2. भू-अभिलेख: अब तक दो पटवारियों की मौत

  • एसएलआर नरेन्द्र पांडे से जब बातचीत की गई तो उन्होंने दो पटवारियों की मौत कोरोना से होने की बात कही। उन्होंने कहा इनकी जानकारी हमारे पास आई है। शाढ़ौरा में पदस्थ महिला पटवारी जूली रघुवंशी की 20 दिन पहले एवं पटवारी कमलेश भगत मुंगावली की सरकारी अस्पताल में मौत हुई थी।

3. जिपं: रोजगार सहायक की मौत, मानेंगे योद्धा

  • जिला पंचायत एसीईओ विशाल सिंह ने बताया कि अचलगढ़ के रोजगार सहायक कृष्णपाल सिंह जादौन को ड्यूटी के दौरान कोरोना हुआ था। 15 से 20 दिन पहले उनकी मौत हो गई थी। उन्होंने बताया कि उसका प्रस्ताव मांगा जा रहा है और उसे कोरोना योद्धा माना जाएगा। िजसके लिए लिखा गया है।

4. स्वास्थ्य विभाग : नेत्र सहायक, एकाउंटेंट सहित डीसीएम की मौत

  • सीएमएचओ डॉ.हिमांशु शर्मा ने बताया कि कोरोना के चलते चंदेरी में पदस्थ नेत्र सहायक, एकाउटेंट राजेश अग्रवाल एवं डीसीएम अमित ठाकुर की मौत हुई है। अमित ठाकुर की मौत शनिवार रात को हुई है। उनका इलाज पहले अशोकनगर अस्पताल में चला था बंसल एवं चिरायु अस्पताल में चला। उनके फैफड़ों में पानी भर गया था, कोरोना पॉजिटिव थे। पीलिया की शिकायत भी थी। उनको 9 यूनिट ब्लड भी चढ़ा था।

रिकॉर्ड में अब तक सिर्फ इनकी कोरोना से मौत दर्ज
मोनिका अरोरा, रंजना विश्वकर्मा, शिवानी साहू, शीलचंद जैन, ब्रज नारायण बोहरे, गौरव जैन, नीलेश जैन, रामचंद गोस्वामी, अर्जुन सिंह रघुवंशी, किशन जादो, सुनीता जैन, डॉ. रमेश जैन, सुगचंद जैन, मजबूत सिंह, महेश अग्रवाल, अमोल सिंह धाकड़, राजेश अग्रवाल, त्रिशला देवी जैन, विद्यादेवी सोनी, रामकली देवी सुराना, मौसम खान, शैलेन्द्र जैन, चमेली देवी बड़कुल, संजीव रघुवंशी, मुनीश खान, शांति देवी की मौत कोरोना से होना मानी है।

खबरें और भी हैं...