प्रतिबंधात्मक आदेश:तेजी से फैल रहा संक्रमण, जिले में कोरोना कर्फ्यू अब 10 मई तक बढ़ाया

अशोकनगर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शीतला माता मंदिर पर माता पूजन के लिए लगी महिलाओं की भीड़। जिसमें नहीं किया जा रहा सोशल डिस्टेंसिंग नियमो का पालन। - Dainik Bhaskar
शीतला माता मंदिर पर माता पूजन के लिए लगी महिलाओं की भीड़। जिसमें नहीं किया जा रहा सोशल डिस्टेंसिंग नियमो का पालन।

प्रतिबंधात्मक आदेश व कई अल्टीमेटम के बाद भी लोगों ने घरों में रहने की आदत नहीं डाली। बंद के दौरान भी मार्केट में कई जगह भीड़ लगती रही। इस कारण जिले में संक्रमण का खतरा भी तेजी से फैला और हर दिन 100 से ज्यादा नए पॉजिटिव सामने आने लगे। ऐसे में प्रशासन को सख्त निर्णय लेते हुए 3 मई तक लगाए गए कोरोना कर्फ्यू को आगे बढ़ाकर 10 मई तक लागू करना पड़ा।

इस अवधि तक भी यदि लोगों ने यदि कोरोना मापदंडों का पालन नहीं किया तो यह प्रतिबंध ओर बढ़ेगा। ज्ञात रहे इससे पहले 24 अप्रैल को हुई जिला क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में समिति सदस्यों ने जिले में 3 मई की सुबह 6 बजे तक जिले में कोरोना कर्फ्यू लागू करने का निर्णय लिया था।

लेकिन इसके बाद भी सड़कों पर लोगों की भीड़ देखी गई। इधर, सैंपल की रिपोर्ट में भी हर दिन 100 के करीब नए पॉजिटिव आने लगे। जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 758 है । यह संख्या प्रतिदिन तेजी से बढ़ती जा रही है।

ऐसी गंभीर स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए जिला स्तरीय संकट प्रबंधन समूह की कार्यकारी कमेटी की बैठक में जिले में कोरोना कर्फ्यू की अवधि को 3 मई से बढ़ाकर दिनांक 10 मई तक लागू करने का निर्णय लिया है। आदेश का उल्लंघन करने वालो पर भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 188 एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60 तथा अन्य सुसंगत अधिनियमों के तहत दण्डात्मक कार्यवाही की जाएगी।

कोरोना कर्फ्यू में इन सेवाओं को छूट रहेगी
अन्य राज्यों एवं अन्य जिलों से आवश्यक वस्तुओं का परिवहन तथा माल ढुलाई एवं सेवाओं का आवागमन। सभी प्रकार की दवाओं की दुकानें, कंट्रोल दुकान, चिकित्सालय, पेट्रोल पंप, बैंक, एटीएम, बीमा कंपनी और एलपीजी गैस सिलेंडर की डिलेवरी, विद्युत प्रदाय, दूध एकत्रीकरण, वितरण और उसका परिवहन।

इलेक्ट्रीशियन, प्लम्बर, कारपेन्टर एवं निर्माण संबंधी गतिविधियों से जुड़े मजदूर एवं मिस्त्री, कृषि यंत्रों की दुकानें एवं कृषि यंत्रों को दुरुस्त करने से संबंधित दुकानें दोपहर 2 बजे तक खुली रहेंगी। किराना दुकानों को सुबह 10 बजे तक होम डिलीवरी, पत्रकार व अखबार वितरक, गेहूं की खरीदी भी चालू रहेगी।

दूध व सब्जी के लिए भी छूट: थोक सब्जियों की बोली प्रतिदिन सुबह 7 बजे तक लगाई जा सकेगी। जबकि कालोनियों में दोपहर 2 बजे तक फैरी लगाकर सब्जी बेचने की छूट रहेगी। कर्फ्यू के दौरान दूध डेयरी सुबह 10 बजे तक खुली रहेगी।

खबरें और भी हैं...