पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शरद पूर्णिमा उत्सव:अभिषेक के साथ शरदोत्सव शुरू, जीवात्मा का पूर्ण ब्रह्म के साथ संयोग ही शरद पूर्णिमा

अशोकनगर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • वैष्णव सत्संग मंडलों, मंदिरों, पर आरंभ हुए सत्संग और संकीर्तन कार्यक्रम

शरद पूर्णिमा उत्सव के तहत दो दिवसीय कार्यक्रमों का शुभारंभ शुक्रवार को मंदिरों में भगवान के अभिषेक से शुरू हुआ। शरद पूर्णिमा की प्रात: काल भगवान द्वारकाधीश का अभिषेक हुआ। अंतरराष्ट्रीय पुष्टिमार्गी वैष्णव परिषद के प्रांतीय प्रचार प्रमुख कैलाश मंथन के मुताबिक भारतीय सनातन संस्कृति में शरद पूर्णिमा उत्सव का विशेष महत्व है। भगवान के प्रति संपूर्ण समर्पण ही भक्ति कहलाती है। द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण के प्रति ब्रजधाम में भक्तों का अनन्य समर्पण शरद पूर्णिमा की चांदनी में प्रतिबिंवित होता है। श्रीमद् भागवत के रास पंचायी में शरद निशा का अलौकिक वर्णन मिलता है। शरद पूर्णिमा को श्री ठाकुर के विशेष श्रृंगार किए जाते हैं एवं मनोरथ होते हैं। शरद पूर्णिमा उत्सव के तहत अंचल के प्रमुख भक्ति केंद्रों पर शुक्रवार के साथ शनिवार को भी उत्सव होंगे। अंचल के सभी पुष्टिमार्गीय केंद्रों पर शरद पूर्णिमा उत्सव पर विशेष कार्यक्रम किए जा रहे हैं। हिउस प्रमुख श्री मंथन ने बताया कि वैष्णव मंदिरों में दो दिन तक रात को खीर महाप्रसादी का वितरण होगा। शुक्रवार को सुबह अभिषेक से कार्यक्रम प्रारंभ होकर रात में प्रसादी वितरण हुआ। वहीं 31 अक्टूबर को श्रीमद् भागवत के तहत द्वितीय दिवस पर रास पंचाध्यायी रासोत्सव पर विचार चिंतन गोष्ठी में विचार वार्ता होगी। चिंतन हाउस सर्राफा बाजार में वार्ता प्रसंग में वार्ताकारों ने कहा कि भारतीय संस्कृति में शरद पूर्णिमा का विशेष महत्व है। इस दिन भगवान कृष्ण के साथ भक्ति रूपी गोपियों के साथ महारास का तात्पर्य जीवात्मा का पूर्ण ब्रह्म पुरुषोत्तम के साथ संयोग होना ही शरद पूर्णिमा की निशा का भाव है। गोपी रूप जीवात्मा जब पूर्ण ब्रह्मा पुरुषोत्तम मिलने को बेताब होती है तब होता है महारास। भगवान से मिलन के लिए गोपी भाव प्राप्त करना जरूरी है। श्री मंथन ने कहा कि अनेकों जन्मों से बिछड़ी हुई जीवात्माओं का मिलन ही शरद पूर्णिमा में होने वाले महारास का प्रमुख भाव माना जाता है। अंचल सहित जिला मुख्यालय एवं बमोरी क्षेत्र में स्थित एक सैकड़ा से अधिक वैष्णव सत्संग मंडलों, मंदिरों, भक्ति केंद्रों पर विशेष मनोरथ, सत्संग, संकीर्तन सभाओं का आयोजन किया गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें