हमारा घर हमारा विद्यालय योजना:गांव में घर-घर जाकर बच्चों को पढ़ा रहे शिक्षक

अशोकनगरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जन शिक्षा केंद्र सेहराई के तहत आने वाले सभी शालाओं के शिक्षक अपने-अपने गांव में जाकर हमारा घर हमारा विद्यालय योजना के तहत बच्चों को पढ़ा रहे हैं। इस दौरान शिक्षक अपने अपने गांव और मोहल्लों में जाकर थाली बजाकर बच्चों को इकट्‌ठा कर उन्हें पढ़ा रहे हैं। हमारा घर हमारा विद्यालय योजना के तहत शिक्षक अपने गांव में जाकर बच्चों को इकट्‌ठा कर एक स्थान पर 8 से 10 बच्चों को बैठाकर उन्हें सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए पढ़ाई करा रहे हैं। अध्ययनरत छात्रों को डिजीलेब ग्रुप के माध्यम से प्रत्येक दिन विषय से संबंधित वीडियो समूह में भेजकर छात्रों को प्रश्न लिखकर भी शिक्षकों द्वारा दिए जा रहे हैं। तथा इनसे फीडबैक लिया जा रहा है। फोन लगाकर बच्चों को उनसे सही व गलत उत्तर पूछ कर उन्हें सही उत्तर बताए जा रहे हैं। तथा उनको मोबाइल ग्रुप पर गुड वेस्ट आदि लिखकर प्रोत्साहित किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि कोविड 19 के कारण शिक्षा विभाग द्वारा जुलाई माह में स्कूल बंद करने के निर्देश दिए गए हैं। शिक्षकों को गांव-गांव जाकर मोहल्ले में थाली बजाकर और इकट्‌ठा करके पढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। इससे शिक्षक गांव-गांव और मोहल्लों में जाकर हमारा घर हमारा विद्यालय योजना के तहत पढ़ाई करवा रहे हैं। इसमें विषय वार शिक्षक सुबह 11 बजे से 1 बजे बच्चों को इकट्‌ठा कर पढ़ाई करवा रहे हैं। इन शिक्षकों में गिरधारीलाल अहिरवार, नरहरि शर्मा, कृष्णकांत मार्कन, शिशुपाल सिंह चौहान, सूर्यनारायण शर्मा, रामवीर यादव आदि शामिल हैं।

खबरें और भी हैं...