पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान संघ की चेतावनी:मांगें कलेक्टर को सुनाने दो दिन से धरने पर बैठे किसान पर वे नहीं आए

अशोकनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जब तक कलेक्टर नहीं आएंगे, हम नहीं उठेंगे, रात को धरना स्थल पर ही सोए, सुबह ठंड होने पर लकड़ी जलाकर हाथ तापे

कलेक्टाेरेट के सामने शुक्रवार रात से करीब 70 किसान अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए हैं, इस दौरान उन्हें एसडीएम भी समझाने आए पर वे नहीं माने। दरअसल ये किसान अपनी मांगें कलेक्टर को बताना चाहते हैं पर वे नहीं आए। किसानों का आरोप है कि न तो कलेक्टर हमारी बात सुनते हैं और न ही कभी फोन रिसीव करते हैं। जब कलेक्टर अभय वर्मा को फोन लगाकर बात करना चाही तो उनका फोन ही नहीं उठा। संघ के जगराम सिंह ने बताया कि कलेक्टर ने चर्चा के लिए बुलाया था पर कि उनका कहना था कि 25 फीसद नुकसान की रिपोर्ट भेजी है, इस पर बात नहीं बनी।

पहला कलेक्टर ऐसा जो किसानों से घृणा करता है: किसान संघ प्रांतीय सचिव
मैंने पहला ऐसा कलेक्टर देखा है जो मप्र में किसानों से घृणा करता है। मैं कई जिलों में जाता हूं, हमारे जिला मंत्री ने कलेक्टर को फोन लगाया था, लेकिन उन्होंने उठाया नहीं। फिर किसका फोन उठाएंगे। ये बात कलेक्टोरेट के गेट के सामने टेंट लगाकर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे भारतीय किसान संघ के प्रांतीय सचिव जगराम सिंह यादव ने किसानों को समझाने आए एसडीएम रवि मालवीय से कही। ये जबाव को सुनकर एसडीएम ने कहा आप लोग अपनी मांगों के बारे में बताएं। उन्होंने कहा हम तो रात को भी यहां सोए थे, रात 4 बजे भी आ सकते थे। रात को बारिश होने पर भी हम हटे नहीं। हम तो प्रशासन की मानवता तब समझते जब तिरपाल लेकर आ जाते। यहां के जिला प्रशासन विशेष तौर पर कलेक्टर और डीडीए के कारण किसानों का 200 करोड़ रुपए का नुकसान पर नुकसान हुआ है। हमसे कलेक्टर बात करें, हम तो 1 घंटे में हमारा टीम टाम उठाकर निकल जाएंगे। अन्यथा हम उठने वाले नहीं हैं।

ये रखी मुख्य मांगें
जिले में सोयाबीन, उड़द की फसल को नुकसान हुआ है। जिला राहत राशि से वंचित हैं। राहत राशि दिलाई जाए।
नामांतरण व फौती नामांतरण की प्रक्रिया सरल की जाए।
पटवारियों द्वारा गेहूं, चना, मसूर आदि अनावारी की जाए।
गेहूं, चना, मसूर के पंजीयन कराए जाएं।
जिले में 2020 का फसल बीमा आया है इसमें कुछ गांव वंचित रह गए हैं। उनको जोड़ा जाए।
किसान कर्जमाफी की 1 लाख तक की राशि आ गई है जिनके नाम आ गए हैं उन्हें दिलाई जाए।

किसानों से कह गए एसडीएम कि कोरोना से बचें
जिस तरह किसानों को अंदेशा था कि कोरोना का बहाना भी बन सकता है और उन्होंने एसडीएम के सामने उनको हटाए जाने की एक वजह ये भी बताई थी। जब किसानों ने अपनी बात को पूरा कह दिया तो जाते-जाते एसडीएम रवि मालवीय उनको कोरोना से बचाव की सीख भी दे गए। उन्होंने कहा मैं आपसे निवेदन करता हूं कोरोना के चलते आप लोग अपनी सेहत का ध्यान रखें।

महामंत्री बोले क्या किसान हमेशा नुकसान ही उठाता रहेगा?
किसान संघ जिला मंत्री रामकिशन रघुवंशी ने कहा किसान क्या नुकसान ही उठाता रहेगा। नुकसान की हकीकत का अंदाजा मंडी में बिके सोयाबीन से लगाया जा सकता है। 2019 में 1 अक्टूबर से 15 दिसम्बर तक 6 लाख 58 हजार 399 क्विंटल सोयाबीन बिका था लेकिन 2020 में अक्टूबर से दिसम्बर तक 2 लाख 63 हजार 990 क्विंटल सोयाबीन बिका। जिससे साफ है पिछले साल की तुलना में 2020 में सोयाबीन का कम उत्पादन हुआ है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी विशिष्ट कार्य को पूरा करने में आपकी मेहनत आज कामयाब होगी। समय में सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। घर और समाज में भी आपके योगदान व काम की सराहना होगी। नेगेटिव- किसी नजदीकी संबंधी की वजह स...

    और पढ़ें