• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Sehore
  • Ashta
  • Even After The Rain Of Potholes On The Old Bhopal Indore Highway, There Is No Dust Instead Of Repair Road } Papanas Bridge Without Railing

नहीं हो रही मरम्मत:पुराने भोपाल-इंदौर हाइवे पर हुए गड्ढों की बारिश के बाद भी नहीं हो रही मरम्मतरोड की जगह धूल } पपनास पुल बिना रेलिंग के होने

आष्टा7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुराने भोपाल इंदौर हाईवे पर हुए गड्ढों के कारण उड़ रहे धूल के गुबार  । - Dainik Bhaskar
पुराने भोपाल इंदौर हाईवे पर हुए गड्ढों के कारण उड़ रहे धूल के गुबार ।
  • पुराने भोपाल-इंदौर हाइवे पर हुए गड्ढों की बारिश के बाद भी नहीं हो रही मरम्मत

बारिश से क्षेत्र के पुल, पुलियाएं क्षतिग्रस्त पड़े हुए हैं। जिनको अभी तक भी नहीं सुधारा जा रहा है। नगर को बायपास हाइवे को जोड़ने वाला पुराना भोपाल-इंदौर मार्ग के डेढ़ किमी के दायरे में गहरे गड्ढे हो गए हैं। इस कारण दुर्घटना होने से भी इंकार नहीं किया जा सकता है। इसमें सबसे अधिक खतरा पपनास पुल पर बना हुआ है। जहां पर गहरे गड्ढे तो हैं, लेकिन साथ ही रेलिंग विहीन है। जिसे पीडब्ल्यूडी ने बारिश में निकाल ली थीं। जिसे अभी तक नहीं लगाया गया है तथा मरम्मत कार्य भी शुरू नहीं हुआ है। हालांकि पार्वती पुल की रेलिंग को लगा दिया गया है। जहां पर कुछ दिनों पहले एक युवक गिरकर गंभीर घायल हुआ था। उक्त मार्ग से प्रतिदिन सैकड़ों गांव के लोग व सीहोर व भोपाल की तरफ जाने वाले लोगों का आवागमन बना रहता है। इसके बावजूद मरम्मत का कार्य शुरू नहीं कराया गया है। इस कारण लोगों को निकलने में दिक्कतांे का सामना करना पड़ रहा है। यहां पर कई जगह तो इतनी हालत खराब हो चुकी है कि वाहनों को निकलने से धूल के गुबार उड़ रहे हैं। भोपाल-इंदौर फोरलेन मार्ग से नगर के प्रवेश मार्ग से लेकर डेढ़ किमी जीन वाली दरगाह तक रोड पीडब्ल्यूडी के अधीन आता है। इसके आगे का 1200 मीटर का कांक्रीट मार्ग नगर पालिका के अंतर्गत आता है। यहां पर तीन साल पहले डेढ़ लाख रुपए की लागत से डामरीकरण कराया गया था। इसमें घटिया निर्माण सामग्री का उपयोग होने के कारण एक साल में ही उखड़ गया था तथा जगह-जगह गड्ढे हो गए थे। जिसे पीडब्ल्यूडी ने पेंचवर्क कराया था। इस बार कम बारिश के बावजूद रोड फिर से गड्ढों में बदल गया। जिससे यहां पर गहरे गड्ढे हो गए हैं। उक्त डेढ़ किमी के दायरे में आबादी क्षेत्र का विस्तार हुआ है। साथ ही जीनिंग फैक्ट्री की भूमि पर नगर पालिका ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पट्टे आवंटित किए हैं। जिससे यहां पर 400 से अधिक मकान बन चुके हैं तथा रहवास हो गया है।
इन स्थानों पर गहरे गड्ढे :

पुराने हाइवे पर इस समय गहरे गड्ढे जानलेवा बन सकते हैं। यहां पर जीन वाली दरगाह, जेके अस्पताल के सामने, रिलायंस पंप के सामने, कॉलोनी के सामने पुलिया तथा पुल के दोनों तरफ गड्ढे बने हुए हैं। इसमें रिलायंस के पंप के सामने तो आए दिन बाइक सवार गिर रहे हैं।

रेलिंग विहीन पपनास पुल
आष्टा व भोपाल को जोड़ने वाला पपनास नदी का पुल रेलिंग विहीन बना हुआ है। पीडब्ल्यूडी ने यहां की रेलिंग को बारिश पूर्व ही निकाल ली थी। बारिश रूकने के बावजूद रेलिंग नहीं लगाई गई है। नगर के सुरेश कुशवाह, दीपक पेंटर, एहसान भाई, अफजल राइन ने बताया कि रोड पर गहरे गड्ढों के कारण परेशानी आ रही है।

उड़ रहे धूल के गुबार
डेढ़ किमी रोड पर इस समय धूल के गुबार उड़ रहे हैं। जिससे राहगीर व बाइक सवारों को परेशानी आ रही है। गड्ढों में पेचवर्क अभी तक नहीं किया गया है।

मरम्मत कराई जाएगी
बारिश रूकने के बाद दोबारा शुरू हो गई है। इस कारण मरम्मत कार्य नहीं हो सका है। मौसम साफ होते ही कार्य शुरू किया जाएगा तथा रेलिंग भी लगाई जाएगी।
एसके पंचोली, एसडीओ, पीडब्ल्यूडी

खबरें और भी हैं...