पढ़ा-लिखा समाज:मर्द हो या औरत इल्म हासिल करना सबकी की जिम्मेदारी है: नदवी

बेगमगंज3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इल्म का हासिल करना और इल्म हासिल करने के लिए उसके इंतजाम करना चाहे मर्द हो या औरत सबकी जिम्मेदारी है। इल्म होगा तो हमें अच्छे बुरे का ज्ञान भी होगा। पढ़ा-लिखा समाज, समाज के साथ-साथ देश की तरक्की में भी अहम किरदार अदा करता है। इसलिए हमारी कोशिश होना चाहिए कि हम जहां बेटों को अच्छी तालीम दिलाएं वही बेटियों के लिए भी तालीम के इंतजाम करके उन्हें शिक्षा के प्रति प्रेरित करें। यदि बेटी पढ़ी लिखी होगी तो एक खानदान को लाभ पहुंचाती है। दीनी और दुनियावी दोनों तालीम जरूरी है। यह बात मोहम्मदी मस्जिद में मौलाना तौहीद आलम नदवी ने अपने दौरे के दौरान उपस्थित लोगों से कहीं। मौलाना पिछले 3 दिनों से भोपाल व आसपास के क्षेत्रों के भ्रमण पर थे।

गौरतलब है कि भोपाल और रायसेन जिले के कई स्कूल, मदरसे और इलाकाई तंजी में मौलाना की निगरानी में हैं। इस मौके पर मौलाना ने शहर की मोहम्मदी मस्जिद में कई अहम और बुनियादी बातों की ओर भी इशारा किया जिसमें नई पीढ़ी में फिकरी सोच और उसका समाधान महिलाओं के रहन-सहन तालीम और शिक्षित करने के प्रति अलख जगाना- मौजूदा हालात में मदारिस और मकतब का निजाम किस तरह कायम किया जाए बच्चों की पढ़ाई के लिए कैसे इंतजाम किए जाएं। कार्यक्रम का संचालन मौलाना अदनान नदवी ने किया।

खबरें और भी हैं...