पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शिकायत:नेसखुर्द के ग्रामीणों को नहीं मिला तीन माह का निशुल्क राशन

बीनागंज23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विकलांग महिला पेंशन के लिए लगा रही बैंक के चक्कर खाते में नहीं आई पेंशन

शासन की योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों तक नहीं पहुंच पा रहा है। ऐसा ही एक मामला ग्राम पंचायत का पखरियापुरा के तहत नेसखुर्द में देखने को मिला। यहां कि निवासी फूल गुर्जर का कहना है कि वह दोनों पैरों से विकलांग है। और उसका विकलांग सर्टिफिकेट 18 माह पहले बनवा लिया था। उन्होंने अपने कागजात बनवाने के बाद गांव के रोजगार सहायक बबलू साहू को कागजात दे दिए थे। लेकिन अभी तक उसका न तो बीपीएल कार्ड बन पाया है और ना ही कोई अन्य साधन से उसे सहायता मिल सकी है।
महिला का कहना है कि उसने पेंशन के लिए सारे डाक्यूमेंटस पंचायत के ग्राम रोजगार सहायक बबलू को दिए थे। लेकिन आज तक उसे विकलांग पेंशन नहीं मिली है। जब रोजगार सहायक से कहा जाता है तो उसका कहना रहता है कि आप विकलांग पेंशन से जुड़ गई हैं। अपने खाते से पेमेंट निकाल सकती हो। बैंक में वहां पर मुझे पैसा नहीं मिलता कहा जाता है कि पेंशन अभी नहीं जुड़ी है।
अस्थाई पात्रता पर्ची नहीं
गांव के ग्रामीणाें गंगाधर, मोतीलाल, अशोक, आजाद सिंह, सुमेर, मोर सिंह, बापुलाल, बालावगस, कैलाश ने बताया कि उनकी अस्थाई पात्रता पर्ची नहीं बनी है। इसके लिए सभी ग्रामीण रोजगार सहायक से मिले तो उसने ग्रामीणों की पर्ची बनाने से इंकार कर दिया। जबकि शासन ने खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग को ने कोविड-19 संक्रमण के दौरान ऐसे गरीब पात्र परिवार जिनके पास पात्रता पर्ची नहीं है 3 माह का राशन निशुल्क प्राप्त कर सकें इसके लिए जारी करने के आदेश दिए गए थे।

जिसके तहत गरीब मजदूर परिवार ऐसे भी हैं जिनके पास पात्रता पर्ची नहीं है और ना ही उनको अस्थाई पात्रता पर्ची में रोजगार सहायक, सचिव द्वारा जोड़ा गया है। इसी प्रकार सोनाहेड़ा पंचायत में भी कुछ गरीब मजदूर लोग जो रोज की मजदूरी करके अपना जीवन यापन करते हैं जो सड़क किनारे हाईवे के पास जोगीपुरा में निवास करते हैं। उन्होंने भी अस्थाई पात्रता पर्ची नहीं मिलने की बात कही।

खबरें और भी हैं...