पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

परेशानी:शहर में आठ दिन छोड़कर आ रहा नलाें में पानी, इसमें भी आधे घंटे की जा रही सप्लाई

ब्यावरा7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
दोपहर में तेज गर्मी के बावजूद भी भोपाल बायपास चौराहा के पास लगे हैंडपंप से पानी भरते लोग। - Dainik Bhaskar
दोपहर में तेज गर्मी के बावजूद भी भोपाल बायपास चौराहा के पास लगे हैंडपंप से पानी भरते लोग।
  • ब्यावरा शहर में जल संकट की समस्या का अब तक नहीं हो सका निदान
  • नजदीक के गांव में राेज हाे रही जल सप्लाई

पिछले पचास साल से शहर में चल रही जल संकट की समस्या का आज तक निदान नहीं हो सका है। नगर पालिका परिषद लोगों को भरपूर पानी उपलब्ध नहीं करवा पा रही है। आलम यह है कि 8 दिन में एक बार नल आते हैं वह भी आधे घंटे के लिए। ऐसे में लोग हैंडपंप और ट्यूबवेलों पर पानी भरते नजर आते हैं। दिन रात और दोपहर तीनों समय लोग जल स्राेतों पर पानी की तलाश करते रहते हैं। जबकि शहर को जलापूर्ति के लिए परियोजनाओं जल की कमी नहीं है। केवल शहर में नगर पालिका के पास जल भंडारण के लिए पर्याप्त संख्या में टंकी नहीं हैं, इस कारण से 7 से 8 दिन में एक बार नल रहे हैं। ब्यावरा शहर दो नेशनल हाईवे पर बसा है। प्रमुख व्यापरिक केंद्र है, आवागमन के प्रमुख साधन यहां पर स्थित हैं। लेकिन फिर भी यहां के लोगों की जल संकट की समस्या का समाधान आज तक नहीं हो पाया है। जबकि हजारों लोग यहां ऐसे हैं, जिनकी पूरी उम्र ही जल संकट से जूझते हुए बीत गई है।

पानी कम, जलकर की वसूली पूरी
शिक्षक दिलीप कसेरा बताते हैं कि हमारी उम्र ही जलसंकट देखते हुए बीत गई है। सात, आठ दिनों तक नल नहीं आते। माह में चार घंटे नगरपालिका द्वारा जल दिया जाता है, राशि पूरे माह की वसूली जाती है।

पदयात्रा भी निकाली
बात तीस वर्ष पूर्व से है जब ब्यावरा नगर में जलसंकट को देखते हुए जबरदस्त आंदोलन हुआ, जिसकी अदालती पेशी लोगों ने कई सालों तक की। इसकी सुनवाई जब 1980 में हुई, पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह ब्यावरा से पैदल मार्च कर खिलचीपुर गए। ब्यावरा के पदयात्रीयो को पार्वती का जल कलश देकर कहा कि आपके शहर पार्वती नदी का पानी आ जाएगा, किन्तु आज तक पार्वती का पानी नहीं आ सका।

गांव ज्यादा बेहतर... खानपुरा में रोज सप्लाई
इधर शहर में जहां 7 से 8 दिन में कुछ समय के लिए नल आ रहे हैं, वहीं पास के गांव खानपुरा में रोजाना नल से पानी की सप्लाई हो रही है। हालांकि अब के बार लोगों को उम्मीद है कि नवागत एसडीएम जूही गर्ग इस मामले में कुछ ना कुछ राहत जरूर दिलवा पाएंगीं। उन्होंने शहर की एक बड़ी सफाई संबंधी समस्या में दूर करने में हाल में कार्य कराया है। अब वे पानी की समस्या हल कराने का प्रयास करेंगी।

कोई जनप्रतिनिधि नहीं करा पाया समस्या का हल
ब्यावरा क्षेत्र में आज तक कोई जनप्रतिनिधि भी जल समस्या का स्थाई समाधान नहीं करवा पाया है। लोगों की समस्या जस की तस है। इसके बावजूद प्रशासन और ना ही जनप्रतिनिधियों ने समस्या का हल नहीं करा सके हैं।

शहर की जल संकट की समस्या को हल करने के लिए मैंने नगर पालिका के अधिकारियों से चर्चा की है। समस्या को हल करने के लिए काफी बजट की जरूरत है, इसके लिए मैं जिला प्रशासन और राज्य स्तर पर पूरा प्रयास करूंगी। लोगों का सहयोग भी इसके लिए चाहिए रहेगा। जल्द ही इस समस्या को लेकर बड़ा कार्य कर अच्छा नतीजा लाने की कोशिश करूंगी।
-जूही गर्ग, एसडीएम ब्यावरा

खबरें और भी हैं...