रास्ते के विवाद पर मुन्नालाल राजपूत की हत्या की थी‎:तनाव भरे माहौल में ग्रहणी गांव में वृद्ध का‎ दाह संस्कार, हत्या के 7 आरोपी गिरफ्तार‎

गंजबासौदा‎एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दाह संस्कार से पहले राजपूत समाज के लोगों ने‎ ज्ञापन देकर कार्रवाई की मांग की।‎ - Dainik Bhaskar
दाह संस्कार से पहले राजपूत समाज के लोगों ने‎ ज्ञापन देकर कार्रवाई की मांग की।‎
  • मौके पर पुलिस बल‎ तैनात किया गया‎

भारी तनाव के माहौल में शनिवार को‎ ग्रहणी गांव में 65 वर्षीय मुन्नालाल‎ राजपूत का दाह संस्कार पुलिस बल‎ की उपस्थिति में हुआ। शुक्रवार को‎ रास्ता विवाद को लेकर राजपूत और‎ अहिरवार परिवार के बीच हुए खूनी‎ संघर्ष में उनकी मौत हो गई थी। इस‎ घटना के बाद बड़ी संख्या में रिश्तेदार‎ और समाज के लोग मुंगावली, गुना,‎ अशोकनगर और जिले से गांव पहुंच‎ गए थे।

पोस्टमार्टम के बाद जैसे ही‎ शव गांव पहुंचा तो तनाव की स्थिति‎ बन गई। तनाव को देखते हुए पुलिस‎ ने घटना में शामिल 7 आरोपियों को‎ गिरफ्तार कर लिया। जबकि दो‎ शासकीय अस्पताल में भर्ती हैं। लोगों‎ ने नायब तहसीलदार दोजीराम‎ अहिरवार और एसडीओपी भारत‎ भूषण शर्मा को ज्ञापन सौंपा।

इसमें‎ कहा गया आरोपियों ने रास्ता रोककर‎ हमला किया था। सूचना मिलने पर‎ जब परिवार के लोग निहत्थे‎ घटनास्थल पर पहुंचे तो आरोपियों ने‎ उन पर भी धारदार हथियारों से हमला‎ किया। बाकी लोग हमीदिया अस्पताल‎ भोपाल में भर्ती हैं।‎

कोटवार को पद से हटाया‎
घटना में शामिल कोटवार महेंद्र अहिरवार को पद‎ से हटा दिया गया है। एसडीओपी भारतभूषण शर्मा‎ ने बताया कि हत्या के सिलसिले में मथुरा, महेंद्र,‎ कमर लाल, वीरेंद्र, राहुल, अमान, जानकीबाई‎ अहिरवार को गिरफ्तार किया है। जबकि दो आरोपी‎ शंभू और राम श्री बाई अहिरवार का उपचार‎ शासकीय अस्पताल में चल रहा है। गांव में तनाव‎ को देखते हुए पुलिस बल तैनात किया गया है।‎रास्ता विवाद को लेकर पूर्व में भी झगड़ा हुआ है।‎

खुद को घायल‎ कर झूठा केस‎ दर्ज कराया‎
आरोपियों ने घटना को‎ योजनाबद्ध तरीके से‎ अंजाम दिया है। पुलिस‎ प्रकरण से बचने के लिए‎ स्वयं को चोट पहुंचाकर‎ मृतक परिवार पर झूठा‎ प्रकरण दर्ज कराया है।‎ मृतक परिवार पर दर्ज‎ मामला वापस लिया जाए।‎ मृतक के परिवार को 10‎ लाख रुपए की आर्थिक‎ सहायता दिलाई जाए।‎ आने-जाने वाले रास्ते पर‎ अवैध रूप से अतिक्रमण‎ हटाकर समस्या का स्थाई‎ हल किया जाए।

समाज‎ के लोगों का कहना था‎ जब तक उनको इस‎ मामले में आश्वासन नहीं‎ मिलता दाह संस्कार नहीं‎ करेंगे। मौके पर मौजूद‎ अधिकारियों ने कार्रवाई‎ का आश्वासन दिया और‎ बताया कि सभी 9‎ आरोपियों को पकड़ लिया‎ गया है। उसके बाद दाह‎ संस्कार हुआ।‎

खबरें और भी हैं...