पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अव्यवस्था का नमूना:ट्रांसफार्मर केबल जलने से पानी को तरसे किसान, इलेक्ट्राॅनिक तौल कांटे रहे बंद

गंजबासौदा14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • नई कृषि मंडी में तुलाई की समस्या खड़ी हुई, 200 केवी का ट्रांसफार्मर पर पूरा लोड

नई कृषि मंडी प्रांगण में सोमवार मंगलवार की दरमियानी रात ट्रांसफार्मर ओवरलोड होने से केबिल जल गई। इसके कारण जल सप्लाई प्रभावित हो गई। नीलामी में भाग लेने आए पानी से परेशान रहे। तो दूसरी तरफ वोल्टेज न मिलने से कई व्यापारियों के इलेक्ट्रॉनिक तोल कांटे बंद हो गए।

इससे तुलाई की समस्या खड़ी हो गई। नए कृषि मंडी प्रांगण में बिजली की व्यवस्था ग्रामीण सर्विस लाइन से है। पूरी मंडी प्रांगण की बिजली व्यवस्था के लिए 200 केवी का ट्रांसफार्मर लगा हुआ है। इसी से जल व्यवस्था चलती है। प्रांगण की सप्लाई भी होती है।
वर्तमान में इस पर इतना लोड है। रात को केबल जल गई। इससे जल सप्लाई व्यवस्था रुक गई। ग्रामीण क्षेत्र की सप्लाई होने के कारण वोल्टेज कम मिलते हैं। बार-बार बिजली ट्रिप होती है। व्यापारियों के तौल कांटे इलेक्ट्रॉनिक हैं। वोल्टेज प्रॉपर न मिलने के कारण तौल कांटे की बैटरी चार्ज नहीं हो पाती। मॉनिटर काम करना बंद कर देता है। इससे कांटे पर तौल नहीं हो जाती है। तौल बंद होने से किसान व्यापारी के बीच में विवाद के हालात बन जाते हैं। व्यापारी परेशान रहते हैं। इधर कार्यालय में भी कंप्यूटरों पर काम नहीं हो पाता। दूसरी तरफ आंतरिक विद्युतीकरण का काम पूरा होने के बाद भी प्रांगण का सर्विस स्टेशन बंद पड़ा है। बिजली विभाग सप्लाई नहीं जोड़ रहा। इन समस्याओं के चलते सीजन में कभी भी बड़ा संकट सामने आ सकता है।
सप्लाई इसलिए जरूरी: नई कृषि मंडी प्रांगण में आवक ज्यादा होने से किसानों से खरीदे गए अनाज की तुलाई देर रात तक चलती है। इसलिए व्यापारियों को भी बिजली की आवश्यकता रहती है। अंधेरे में तो तुलाई नहीं हो सकती। ग्रामीण क्षेत्र से अस्थाई कनेक्शन होने के कारण वर्तमान में पूरी बिजली व्यवस्था का लोड उसी पर है। ग्रामीण सप्लाई में वोल्टेज नहीं मिलते। इससे 100 वाट का बल्ब भी चिमनी की तरह रोशनी देता है। इसके अतिरिक्त करीब डेढ़ सौ व्यापारियों के भूखंड निर्माण चल रहे हैं। वह टैंकरों से पानी होदी में स्टॉक करते हैं। मोटर से निकालकर तलाई करते हैं। इसलिए उनको भी बिजली की आवश्यकता है। कनेक्शन नहीं मिल पा रहे।
दिक्कत कम नहीं, 3 करोड़ में ऐसे सिर्फ एक करोड़
आंतरिक बिजली व्यवस्था का पर 5 करोड़ रूपया स्वीकृत हुआ है। ठेकेदार ने 3 करोड़ रुपए से ज्यादा का काम कर दिया है। लेकिन सिर्फ एक करोड़ रुपए भुगतान मिला है। भुगतान की फाइल 3 महीने से मंडी बोर्ड भोपाल में पड़ी हुई है। इधर भुगतान न मिलने से ठेकेदार भी परेशान है। इसकी पुष्टि मंडी सचिव द्वारा भी की गई है। जबकि दावा किया जा रहा था। 1 मार्च को बिजली सब स्टेशन सप्लाई शुरू कर देगी। लेकिन हालात यह है कि सब स्टेशन पर स्थापित 8 एमबी का ट्रांसफार्मर वे बिजली विभाग द्वारा चार्ज नहीं किया गया। जो जो खामियां उन्होंने बताए थे। एक महीने पहले दुरुस्त की जा चुकी हैं। हालात यह है कि विदिशा विद्युत संभाग के जिम्मेदार अधिकारी फोन तक रिसीव नहीं करते।
यह हालात: 6 में से 3 हाईमास्क जल रहे हैं
कलेक्टर डॉक्टर पंकज जैन के दबाव के बाद ठेकेदार ने नए मंडी प्रांगण में विद्युत सब स्टेशन का काम पूरा कर दिया है। प्रांगण में 200 स्ट्रीट लाइट लगाई जा चुकी हैं। 200 केवी के 11 और 100 केवी के 34 ट्रांसफार्मर लगाए जा चुके हैं। इसके अतिरिक्त 6 हाई मास्क लगे हुए हैं। लेकिन सब स्टेशन के लिए विद्युत मंडल द्वारा सप्लाई लाइन का कनेक्शन नहीं दिया जा रहा। इसके कारण अब तक 3 करोड़ रुपए का काम पूरा होने के बाद भी नए प्रांगण की बिजली सप्लाई सब स्टेशन से प्रारंभ नहीं हो पा रही। वोल्टेज न मिलने और अस्थाई कनेक्शन का ट्रांसफार्मर ओवरलोड होने के कारण 6 में से 3 हाई मास्क जल पा रहे हैं।
जैसे ही आर्डर मिलेगा सप्लाई शुरू कर देंगे
सब स्टेशन का कार्य पूरा हो चुका है। लेकिन सप्लाई के आदेश वरिष्ठ कार्यालय को देना है। जैसे ही आर्डर मिलेगा सप्लाई शुरू की जाएगी।
राजीव रंजन सिंह, एई ग्रामीण मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी, गंजबासौदा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें