पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बांटीं खुशियां:घर में सम्मान पाकर भावुक शिक्षक बोले-यह यादगार पल

विदिशा20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 80 से ज्यादा शिक्षकों के घर ढोल-नगाड़ों, माला लेकर पहुंचे बालाजी समूह के सदस्य

शिक्षक दिवस के अवसर पर घर पर परिवार के साथ वक्त बिता रहे शिक्षकों की खुशी का तब ठिकाना नहीं रहा जब उन्हें बतौर सर प्राइस सम्मानित किया गया। रियल एस्टेट समूह बालाजी कि इस पहल को शिक्षकों ने अनूठा बताते हुए यादगार करार दिया। बालाजी आर्किड पुरनपुरा में रहने वाले 80 से ज्यादा शिक्षक परिवारों के लिए शिक्षक दिवस के दिन खुशियां लेकर आया। अपने कैंपस में रहने वाले शिक्षकों को सम्मानित करने के लिए बालाजी समूह के सदस्य उनके घर पहुंचे। उनके परिवार के सदस्य बाहर आए ढोल नगाड़ों की गूंज के बीच उन्हें माला पहनाकर शाल श्रीफल देकर प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया। शिक्षिका शोभा शर्मा इतनी भावुक हुई कि उन्होंने वॉइस मैसेज रिकॉर्ड कर सीएमडी नरेश जैन को भेजा।

श्रीमती शर्मा ने कहा कि शिक्षकों की भूमिका को इतनी शिद्दत से परिभाषित कर उनका सम्मान करने की यह पहल अनूठी है। शिक्षक नन्नूलाल कुशवाह ने कहा कि उन्होंने कभी कल्पना नहीं की थी कि इस तरह भी कभी कोई उन्हें ऐसे सम्मानित करेगा। शिक्षकों के सम्मान के लिए एक चार पहिया में वाहन में प्रशस्ति पत्र, शाल, श्रीफल और मालाएं लेकर बालाजी ग्रुप के डायरेक्टर मयंक जैन के साथ अमन जैन, सुनील शर्मा, इवेंट कंसलटेंट नरेश राज साहू, अमित, अनुज के साथ ढोलों की थाप के बीच शिक्षकों के घर पहुंचे। शिक्षकों के बाहर निकलते ही दो युवतियों ने उन्हें तिलक लगाया, माला पहनाई और अभिनंदन पत्र देकर मुंह मीठा कराया। डायरेक्टर मयंक जैन ने कहा कि हम अपने कैंपस में रहने वाले सभी रह वासियों के साथ पारिवारिक रिश्ता बनाते हैं और उसे निभाने का दायित्व भी हमारा है। इस अवसर पर उन्हें सम्मानित करना और प्रोत्साहित करना इसी दायित्व का एक हिस्सा है।

खबरें और भी हैं...