पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Guna
  • 96.4 Mm Of Water Fell In 11 Days Of May, If It Had Fallen 20 Mm More, The Record Of 1959 Would Have Been Broken.

लगातार तीसरे दिन तापमान में गिरावट:मई के 11 दिनों में गिरा 96.4 मिमी पानी, 20 मिमी और गिरता तो 1959 का रिकार्ड टूट जाता

गुना22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मौसम के पदचिन्ह... रात को हुई बारिश से एबी रोड के धंसे हुए हिस्सों में पानी भर गया। अधिक गहरे हिस्सों में भरा पानी बरकरार रहा। बाकी जगहों पर दूसरे दिन पड़ी गर्मी से पानी वाष्पित हो गया। - Dainik Bhaskar
मौसम के पदचिन्ह... रात को हुई बारिश से एबी रोड के धंसे हुए हिस्सों में पानी भर गया। अधिक गहरे हिस्सों में भरा पानी बरकरार रहा। बाकी जगहों पर दूसरे दिन पड़ी गर्मी से पानी वाष्पित हो गया।
  • 1959 में मई में 116.1 मिमी बारिश हुई थी
  • दो दिन बारिश का अलर्ट

इस बार मई का मौसम ऐसा रहा मानो जून का महीना चल रहा हो। इस माह के दौरान अब तक 11 दिन ऐसे रहे जब बारिश रिकॉर्ड की गई। यह औसत से 9 गुना ज्यादा हैं। मौसम विभाग के मुताबिक मई में औसतन 1.4 दिन बारिश होती है। इसके अलावा औसत रूप से 3 दिन आसमान में गरज-चमक वाले बादल छाए रहने की संभावना रहती है। इस बार यह सारे रिकॉर्ड ध्वस्त हो गए।

इस माह के दौरान अब तक 96.4 मिमी बारिश हो चुकी है। 1959 के बाद मई में यह अब तक की सबसे ज्यादा बारिश है। उस साल इस माह के दौरान 116.1 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई थी। उसी साल 24 घंटे में 55.2 मिमी बारिश का ऑल टाइम रिकॉर्ड भी आज तक बरकरार है। इस साल एक दिन में सबसे ज्यादा बारिश 19 मई को 35.4 मिमी रिकॉर्ड हुई थी।
मई में मौसम बदलने की वजह
2 तूफान और 6 से ज्यादा पश्चिमी विक्षोभ के कारण बारिश ज्यादा :

मई में दो तूफान और 6 से ज्यादा बार पश्चिम विक्षोभ आए। इनकी वजह से ही बारिश के दिन और मात्रा ज्यादा रही। अरब सागर में उठे ताऊ ते तूफान ने 17 से 20 मई तक मौसम पर असर डाला। इस दौरान 60 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई।

मई के अंतिम हफ्ते में बंगाल की खाड़ी के तूफान ने असर डाला। हमारे यहां उसकी वजह से बारिश ज्यादा नहीं हुई लेकिन लू नहीं चली। 6 बार पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हुए, पहले पखवाड़े के 6 दिन और बीते दो दिन से मौसम में बदलाव आ रहा है।
आगे क्या
मौसम विभाग द्वारा 5 दिन का जो पूर्वानुमान जारी किया है, उसके मुताबिक 31 मई और 2 जून को मध्यम से तेज बारिश हो सकती है। इन दोनों दिन के लिए यलो अलर्ट जारी हुआ है। जून में पिछले साल रिकॉर्ड तोड़ गर्मी रही थी। कम से कम 4 बार पारा 45 से 46 डिग्री तक पहुंचा। इस बार ऐसे हालात होने की संभावना कम है।
वर्तमान स्थिति... तापमान में लगातार गिरावट, लेकिन उमस- गर्मी बरकरार
बीते 3 दिन से तापमान 42.8 से गिरकर 40.8 पर आ गया है लेकिन गर्मी से कोई राहत नहीं है। रविवार को शनिवार के मुकाबले 10 तापमान कम होने के बावजूद पसीने छुड़ा देने वाली गर्मी रही। इसकी वजह है हवा में नमी का लगातार बढ़ना। बीते 3 दिन में आर्द्रता 30 फीसदी बढ़ चुकी है।

इससे पारे में आ रही गिरावट का गर्मी पर कोई असर नहीं दिख रहा है। अधिक नम हवा के साथ तापमान 40 डिग्री पर हो तो महसूस होने वाली गर्मी 45 डिग्री जैसी होती है। हालांकि रविवार रात को बारिश होने की वजह से न्यूनतम तापमान पिछले दिन के मुकाबले एक डिग्री गिरकर 25 पर आ गया।

खबरें और भी हैं...