पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

श्रीमद भागवत कथा:सच्चा मित्र वही जो बिना बताए मित्र की मदद कर दे

गुना12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • सुदामा चरित्र सुनाकर कथा का सूक्ष्म रूप में पंडित शिवदयाल ने समापन किया

ग्राम सालाेटा में चल रही सात दिवसीय श्रीमद् भागवत कथा का समापन सुदामा चरित्र के वर्णन के साथ हुआ। कथाव्यास पं. शिवदयाल भार्गव भृगुकुंज पीपलखेड़ी द्वारा सुदामा चरित्र का वर्णन किया गया। कथाव्यास ने सुदामा चरित्र का वर्णन करते हुए कहा कि मित्रता करो, तो भगवान श्रीकृष्ण और सुदामा जैसी करो। सच्चा मित्र वही है, जो अपने मित्र की परेशानी को समझे और बिना बताए ही मदद कर दे। परंतु आजकल स्वार्थ की मित्रता रह गई है। जब तक स्वार्थ सिद्ध नहीं होता है, तब तक मित्रता रहती है। जब स्वार्थ पूरा हो जाता है, मित्रता खत्म हो जाती है।

उन्होंने कहा कि एक सुदामा अपनी पत्नी के कहने पर मित्र कृष्ण से मिलने द्वारकापुरी जाते हैं। जब वह महल के गेट पर पहुंच जाते हैं, तब प्रहरियों से कृष्ण को अपना मित्र बताते है और अंदर जाने की बात कहते हैं। सुदामा की यह बात सुनकर प्रहरी उपहास उड़ाते है और कहते है कि भगवान श्रीकृष्ण का मित्र एक दरिद्र व्यक्ति कैसे हो सकता है। प्रहरियों की बात सुनकर सुदामा अपने मित्र से बिना मिले ही लौटने लगते हैं।

तभी एक प्रहरी महल के अंदर जाकर भगवान श्रीकृष्ण को बताता है कि महल के द्वार पर एक सुदामा नाम का दरिद्र व्यक्ति खड़ा है और अपने आप को आपका मित्र बता रहा है। द्वारपाल की बात सुनकर भगवान कृष्ण नंगे पांव ही दौड़े चले आते हैं और अपने मित्र को रोककर सुदामा को रोककर गले लगा लेते हैं। कहने लगे कि तुम अपने मित्र से बिना मिले ही वापस जा रहे थे। भगवान श्रीकृष्ण को सुदामा के गले लगा देखकर प्रहरी और नगरवासी अचंभित हो गए। भगवान कृष्ण-सुदामा को महल में सिंहासन पर बैठाकर खुद नीचे बैठ गए। श्रीकृष्ण को नीचे बैठा देखकर उनकी रानियां भी दंग रह गई, कि कौन है जिन्हें भगवान सिंहासन पर बैठाकर खुद नीचे बैठे हैं।

भगवान कृष्ण ने आंसुओं से मित्र के पैर धोए और पैर से कांटे निकाले। इस अवसर पर सूक्ष्म रूप से भागवत प्रसादी का वितरण किया एवं कोरोना गाइडलाइंस का पालन मास्क व सेनीटाइजर का उपयोग भी किया गया। भागवत कथा के समापन अवसर पर पीलाघाटा से हीरेंद्र सिंह बंटी बना का साफा बांधकर एवं श्रीफल भेंट कर स्वागत किया प्रकाश महाराज, सरपंच लाखनसिंह धाकड़, लोकेन्द्र बना, पिंटू बना मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कहीं इन्वेस्टमेंट करने के लिए समय उत्तम है, लेकिन किसी अनुभवी व्यक्ति का मार्गदर्शन अवश्य लें। धार्मिक तथा आध्यात्मिक गतिविधियों में भी आपका विशेष योगदान रहेगा। किसी नजदीकी संबंधी द्वारा शुभ ...

    और पढ़ें