पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Guna
  • After Marriage, The Robbery Gang Who Fled After Robbing People's Money And Jewelry Came Under Police Arrest, The Police Made A Constable And Sent Him A Bridegroom.

MP में लुटेरी दुल्हनों की गैंग पकड़ाई:शादी के बाद रुपए और गहने लेकर भागने वाली 4 युवतियाें सहित 6 गिरफ्तार; पकड़ने के लिए कांस्टेबल दूल्हा, मुखबिर ससुर बनकर पहुंचा

गुना8 दिन पहले
पुलिस की गिरफ्त में आए गैंग के सदस्य।

शादी के नाम पर लोगों को लूटने वाली गैंग को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने छह लोगों को पकड़ा है। इनमें चार महिलाएं और दो पुरुष हैं। आरोपी कुआंरे युवकों को फंसाकर उनसे शादी के नाम पर रुपए ऐंठते थे। इसके बाद लड़की कुछ दिन घर में रुक कर पैसे लेकर फरार हो जाती थी। आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस ने उन्हीं का तरीका अपनाया। इसके लिए एक कॉन्स्टेबल को दूल्हा बनाकर भेजा। सवा लाख रुपए में सौदा तय हुआ। जब आरोपी लड़की दिखाने के लिए आए, तब पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया।

एसपी राजीव कुमार मिश्रा ने बताया कि मधुसूदनगढ़ निवासी लाखन लोधी पिता नवल लोधी (22) की शादी नहीं हो रही थी। इसके लिए उसके पिता कैलाबई मीणा नाम की महिला से मिले। 8 मई को कैलाबाई अपने साथी वीरपुरा निवासी गोविंद मीणा दोनों को साथ लेकर विदिशा जिले की लटेरी तहसील लेकर गए। यहां उन्हें रहीश निवासी भोपाल, ममता अहिरवार और नीलम रेकवार दोनों निवासी सागर से मिलवाया। यहां लाखन ने ममता से को शादी के लिए पसंद कर लिया। इसके बाद 70 हजार रुपए देकर ममता को साथ ले आए।

यहां रूपाहेड़ी गांव आकर मंदिर में शादी कर ली। कुछ दिन बाद ममता अपनी मां के बीमार होने की कहर चली गई। बाद में लाखन से 15 हजार रुपए लेने के बाद ही वापस आई। दो दिन बाद दोबारा सागर जाने की जिद करने लगी। मना करने पर उसने 25 मई को साथियों नीलम रैकवार, रहीश, प्रीति उईके, प्रियंका चौहान, सोनू श्रीवास्तव, मजबूत सिंह यादव, मोहर सिंह ठाकुर व जगदीश मीना को बुला लिया। मना करने के बाद भी वह ममता को जबरदस्ती साथ लेकर चले गए। लाखन ने इसकी शिकायत थाने में कर दी।

टीआई ने किया गैंग के सदस्य को फोन

पुलिस ने लाखन से रहीश का नंबर लेकर गैंग के सदस्य रहीश से संपर्क किया। खुद थाना प्रभारी ने फोन कर कहा कि उन्हें शादी के लिए लड़की चाहिए। सदस्यों ने सवा लाख रुपए मांगे। थाना प्रभारी राजी हो गए। सदस्य ने कहा कि उनके पास कई लड़कियां हैं। सौदा तय होने के बाद गैंग के सदस्यों ने उन्हें भोपाल के बैरसिया बुलाया।

कॉन्स्टेबल को बनाया नकली दूल्हा

पुलिस ने मधुसूदनगढ़ थाने में पदस्थ कॉन्स्टेबल को नकली दूल्हा बनाया। उसके साथ मुखबिर को लड़के का पिता बनाकर भेजा। इनके साथ टीम भी बैरसिया के लिए रवाना हुई। बैरसिया-नजीराबाद के बीच रोड पर पहुंचे। यहां कार में गैंग के सदस्य आए। उनको शादी के लिए लड़का बनाकर लाए कॉन्स्टेबल को दिखाया, तो वह तैयार हो गए। इसके बाद गैंग के सदस्यों ने भी चार लड़कियां दिखाईं। पुलिस को यकीन हो गया। टीम ने मौके पर से 6 लोगों को पकड़ लिया। वहीं, गाड़ी में बैठे कुछ लोग कार्रवाई को भांपकर भाग गए।

आरोपियों को न्यायलय में पेश करने ले जाती पुलिस
आरोपियों को न्यायलय में पेश करने ले जाती पुलिस

ये आरोपी पकड़े गए

पकडे गए आरोपियों में 3 लोग सागर के रहने वाले हैं। वहीं एक-एक सदस्य बैतूल, सीहोर और भोपाल के निवासी हैं। आरोपियों में ममता (30) निवासी सागर, नीलम रैकवार (28) निवासी सागर, प्रीति उईके (27) निवासी सारणी बैतूल, प्रियंका चौहान (27) निवासी, सीहोर, रहीश मुल्तानी (36) निवासी भोपाल, सोनू श्रीवास्तव (28) निवासी सागर हैं।

दूसरे शहरों में भी की है लूट

एसपी राजीव कुमार मिश्रा ने बताया कि गैंग ने मध्यप्रदेश के अलावा दूसरे राज्यों में भी लोगाें को इसी तरह लूटा है। बताया जाता है कि आरोपियों ने शाजापुर, भोपाल, राजगढ़ में भी वारदात को अंजाम दिया है। पुलिस द्वारा गिरोह के 11 सदस्यों को आरोपी बनाया है। 5 आरोपी फरार हैं।

खबरें और भी हैं...