पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गोष्ठी आयोजित:कृषि वैज्ञानिकों ने पर्यावरण बचाने लोगों को जैविक विधि से खेती करने के बताए तरीके

आराेन9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कृषि विज्ञान केंद्र ने कृषि में जलवायु परिवर्तन के प्रभाव पर आयोजित की गोष्ठी

कृषि विज्ञान केंद्र आरोन द्वारा 75वां भारत अमृत महोत्सव के तहत विश्व पर्यावरण दिवस कार्यक्रम का आयोजन वर्चुअल माध्यम से किया गया। इस अवसर पर केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ. बीएल प्रजापति द्वारा उपस्थित सभी सदस्यों एवं स्व सहायता समूह की महिलाओं को पर्यावरण के महत्व पर विस्तार से जानकारी दी गई और उन्हें अधिक से अधिक वृक्षारोपण करने के लिए प्रोत्साहित भी किया गया।

इसी क्रम में डॉ. वरुण प्रताप सिंह जादौन कृषि प्रसार वैज्ञानिक द्वारा कृषि में जलवायु परिवर्तन का प्रभाव एवं उनके निदान विषय पर उद्बोधन दिया गया। कार्यक्रम में उपस्थित शिक्षक राघवेंद्र शर्मा द्वारा पर्यावरण का परिचय, पर्यावरण में उपस्थित गैसों की जानकारी एवं ऑक्सीजन गैस की मानव शरीर में उपयोगिता पर उद्बोधन दिया।

एसआरएलएम गुना से ज्योति भार्गव द्वारा पर्यावरण सुरक्षा में महिलाओं की क्या-क्या भूमिका हो सकती है विषय पर प्रकाश डाला गया। डॉ. राजेंद्र यादव क्वालिटी मैनेजर जैविक प्रमाणीकरण संस्था रायपुर द्वारा सभी सदस्यों को जैविक खेती के माध्यम से पर्यावरण को किस प्रकार से बचाया जा सकता है विषय पर उद्बोधन दिया। पं. शिवकुमार उपरिंग ने सभी सदस्यों को पर्यावरण बचाने के लिए अपने अनुभव एवं सुझाव साझा किए गए। अतिथियों के उद्बोधन पश्चात पर्यावरण बचाने के लिए शपथ ग्रहण एवं कार्यक्रम में उपस्थित डॉ. रेनू जादाैन, भारती धाकड़, रानी दुबे, रेखा श्रीवास्तव एवं अन्य सदस्यों द्वारा वृक्षारोपण भी किया गया। अंत में डॉ. वरुण प्रताप सिंह जादाैन द्वारा उपस्थित सभी अतिथियों, सदस्यों व मोहम्मद आरिफ खान कंप्यूटर प्रोग्रामर का आभार माना।

खबरें और भी हैं...