एसडीएम की अनुमति जरूरी:वेयर हाउस में रखा चना-मसूर एसडीएम के आदेश से निकलेगा

गुना9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

22 मार्च से समर्थन मूल्य पर खरीदी शुरू होने से पहले एक अहम व्यवस्था लागू कर दी गई है। इसके तहत सरकारी व निजी वेयर हाउस में रखे चना व मसूर की निकासी प्रतिबंधित कर दी गई है। इसे संबंधित एसडीएम की अनुमति लेने के बाद ही निकला जा सकेगा। समर्थन मूल्य पर सालों से खरीदी हो रही है लेकिन इस तरह की पाबंदी पहली बार लगी है। अधिकारी बताते हैं कि यह पाबंदी इसलिए लागू की जा रही है जिससे कि वेयर हाउस में रखे चना या मसूर को निकालकर दुबारा खरीदी केंद्रों पर न ले जाया जाए।

हैरानी की बात यह है कि अब अचानक सरकार को यह समझ में आया है कि इस तरह एक ही उपज को बार-बार बेचा जा सकता है। एसडीएम अंकिता जैन ने भी बताया कि खरीदी में किसी भी तरह की डुप्लीकेसी यानि पुनरावृत्ति की संभावना को रोकने के लिए इस तरह की व्यवस्था लागू की है।
कैसे हो सकती है गड़बड़ी

जानकार बताते हैं कि अगर अधिकारियों के साथ मिलीभगत हो तो सब संभव है। इसके अलावा वेयर हाउस के मालिकों में ज्यादातर के पास जमीन भी रहती है। कागजों पर वे खुद को किसान साबित कर सकते हैं। ऐसे में वेयर हाउस में रखी पुरानी फसल को वे दोबारा से बेच सकते हैं।

खबरें और भी हैं...