• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Guna
  • CHO Said – Due To The Duty In Vaccination, They Are Not Able To Do Their Scheduled Work, Every Month There Is A Loss Of 15 Thousand; Health Department Is Not Taking Care

आर्थिक तंगी से परेशान स्वास्थ्य अधिकारी:CHO बोले- टीकाकरण में डयूटी के कारण नहीं बन पा रहा इंसेंटिव, हर महीने 15 हजार का हो रहा नुकसान; स्वास्थ्य विभाग नहीं ले रहा सुध

गुना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ज्ञापन देने CMHO कार्यालय पहुंचे जिलेभर के सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी। - Dainik Bhaskar
ज्ञापन देने CMHO कार्यालय पहुंचे जिलेभर के सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी।

गुना जिले के उप स्वास्थ्य केंद्रों पर पदस्थ स्वास्थ्य अधिकारियों ने आर्थिक तंगी के चलते प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। अधिकारियों ने CMHO को एक ज्ञापन सौंपा है। जिसमें स्वास्थ्य विभाग से आर्थिक नुकसान की भरपाई करने को कहा गया है। अधिकारियों का कहना है कि टीकाकरण में ड्यूटी लगाए जाने के कारण वे अपना मुख्य काम नहीं कर पा रहे हैं। जिससे उन्हें आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ रहा है

मंगलवार को जिलेभर के स्वास्थ्य अधिकारी जिला अस्पताल स्थित CMHO कार्यालय पहुंचे। यहां उन्होंने CMHO को एक ज्ञापन सौंपा। इसके बाद कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर आवेदन दिया। CHO का कहना है कि हम सभी कोविड-19 टीकाकरण कार्य में निरंतर सेवाएं देते आए हैं। जितना संभव हो सकेगा, उतनी सेवाएं भविष्य में भी निरंतर देते रहेंगे। टीकाकरण में नियमित रूप से ड्यूटी लगाए जाने के कारण सभी अपना प्राइमरी हेल्थ केयर का मुख्य काम नहीं कर पा रहे हैं। इसका टारगेट पूर्व निर्धारित है।

उसी काम के आधार पर करीब 15 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि बनती है। जो कि कोविड वैक्सीनेशन के कारण प्रभावित हो रही है। जिसका नुकसान उन्हे आर्थिक तौर पर झेलना पड़ रहा है। साथ ही कहा कि हमारा मकसद टीकाकरण अभियान के काम को प्रभावित करना नहीं है।

इधर CHO काफी देर तक कार्यालय में खड़े रहे लेकिन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ज्ञापन लेने नहीं पहुंचे। ज्ञापन के माध्यम से मांग की गई है कि सभी CHO को मासिक रूप से हो रहे आर्थिक नुकसान की भरपाई की जाए। इसके लिए उन्हें 500 रुपये प्रति सत्र का भुगतान किया जाए। जून महीने से उन्हें उनका इंसेंटिव नहीं दिया गया है। पहले जून तक का भुगतान करने का स्वास्थ्य विभाग ने आदेश निकाला था, लेकिन फिर भी उन्हें पैसा नहीं मिल रहा है

खबरें और भी हैं...