• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Guna
  • Demonstration In Collectorate After Cancellation Of Rally In Bhopal; Memorandum Submitted To The CM; Warning Of Violent Agitation

पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करने की मांग:भोपाल में रैली रद्द होने के बाद कलेक्ट्रेट में किया प्रदर्शन; CM के नाम सौंपा ज्ञापन; उग्र आंदोलन की दी चेतावनी

गुना6 महीने पहले
कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन करते अधिकारी-कर्मचारी।

पुरानी पेंशन की मांग पर भोपाल में होने वाली रैली निरस्त होने के बाद जिले में अधिकारियों-कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया। कलक्ट्रेट गेट से रैली निकालकर प्रशासन को ज्ञापन दिया। संयुक्त मोर्चा के जिलाध्यक्ष आलोक नायक ने बताया कि जब कई राज्यों ने पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू कर दी है तो प्रदेश सरकार क्यों आगे नहीं बढ़ रही। वहीं एक और नेता ने बताया कि महंगाई के दौर में भी सरकार कोई मदद नहीं कर रही है। कार्यक्रम में जिले के कई कर्मचारी संगठन शामिल हुए।

संयुक्त अधिकारी-कर्मचारी मोर्चा के नेतृत्व में रैली निकाली गई। रैली के बाद प्रशासन को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन के जरिये बताया गया कि 1 जनवरी 2005 से मध्यप्रदेश में नियुक्त होने वाले कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन व्यवस्था बंद कर नई पेंशन योजना लागू की है। इसके बंद होने से कर्मचारी को रिटायर होने के बाद हर महीने मात्र 800 से 1000 तक ही पेंशन प्राप्त हो रही है। इससे बुढापे में कर्मचारियों की आजीविका चलाना मुश्किल हो गया है। शून्य पेंशन स्कीम में परिवार पेंशन का भी प्रावधान नहीं है ।

नई पेंशन स्कीम में कर्मचारी के कुल वेतन का 10 प्रतिशत राशि काटी जाती है तथा शासन की ओर से 12 प्रतिशत राशि जमा की जाती है। इस राशि को शेयर मार्केट में लगया जाता है जिसके चलते कर्मचारियों का भविष्य शेयर मार्केट के उपर निर्भर हो गया है। इस प्रकार सेवा निवृत तक शेयर मार्केट में जमा कुल राशि का सेवा निवृत होने पर 60 प्रतिशत अंशदान कर्मचारी को नगद दिया जाता है तथा शेष 40 प्रतिशत जमा राशि के ब्याज से प्राप्त राशि को पेंशन के रूप में कर्मचारी को प्रदान किया जाता है जो ऊंट के मुंह में जीरा के समान है। ज्ञापन के माध्यम से पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने की मांग की गई है।

खबरें और भी हैं...