पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वैक्सीनेशन:उच्च जोखिम वाले समूहों को टीका लगना है पर वैक्सीन नहीं

गुना25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मंगल, शुक्र, रवि को नहीं होगा 18+ टीकाकरण
  • 9 जून तक के लिए 4000 डोज ही उपलब्ध

कई माह से उठ रही मांग के बाद सरकार ने उच्च जोखिम समूहों का ऑनसाइट टीकाकरण करने के आदेश रविवार को जारी कर दिए। समस्या यह है कि इसके लिए जितनी वैक्सीन की जरूरत पड़ेगी वह है ही नहीं। रविवार तक बस 4000 डोज बचे थे, जिसे प्राथमिकता के साथ 18+ और 45+ के लिए ही इस्तेमाल किया जाएगा।

वैक्सीन की कमी को देखते हुए यह भी तय किया गया है कि मंगल, शुक्रवार व रविवार को 18+ का टीकाकरण नहीं होगा। सरकार ने रविवार को आदेश जारी किया था। इसमें 15 व्यवसायिक व कामकाजी समूहों उच्च जोखिम वाला माना गया है। कलेक्टरों को निर्देश जारी किए गए हैं कि इनका 100 फीसदी टीकाकरण किया जाए। इनके लिए सत्र भी ऑनसाइट रजिस्ट्रेशन पर आधारित रखे जाएं।
सरकार को इन समूहों की चिंता तो हुई है लेकिन समस्या यह है कि उनके लिए वैक्सीन कहां से आएगी। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. एडी विंचूरकर ने बताया कि हमारे पास अभी 4 हजार डोज हैं। इनके आधार पर हमने 9 जून तक के सत्र तय किए हैं। इसमें 18+ और 45+ के समूह शामिल होंगे। उच्च जोखिम वाले समूह के लिए वैक्सीन की उपलब्धता होगी तब सत्र तय किए जाएंगे।
सैकड़ों ने जान गंवाई
सरकार ने यह कदम तब उठाया है जबकि सैकड़ों उच्च समूह वाले लोगों ने जान गंवा दी। शिक्षक संगठनों के मुताबिक अकेले दूसरी लहर में ही उनके 300 से ज्यादा साथियों की मौत हुई है। अकेले गुना जिले में मार्च से मई के बीच 20 से ज्यादा शिक्षकों की मौत हो चुकी है। यूनियन बैंक के मुताबिक 80 से ज्यादा बैंककर्मियों की कोविड या इससे पैदा हुई समस्याओं की वजह से मौत हुई। यह आंकड़े सिर्फ दो संगठित समूहों के ही हैं। अन्य लोगों का तो कोई हिसाब-किताब ही नहीं है।

इन्हें माना गया उच्च जोखिम वाला समूह
उचित मूल्य दुकानों के विक्रेता, सिलेंडर सप्लाई करने वाले, पेट्रोल पंप स्टाफ, घर के काम वाली महिलाएं, किराना दुकान व्यापारी, सब्जी/गल्ला मण्डी के विक्रेता, हाथठेला वाले, दूधवाले, वाहन चालक, साईट मजदूर, मॉल/होटल/रेस्टोरेंट में कार्यरत स्टाफ, शिक्षक, केमिस्ट, बैंकर्स, सुरक्षागार्ड इत्यादि।

खबरें और भी हैं...