पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कथा में भगवान को लगाया छप्पन भोग:अज्ञान का आवरण हटना ही भगवान का अवतार: भार्गव

गुना12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ग्राम पंचायत सालोटा में नरेटिया परिवार द्वारा आयोजित भागवत कथा के पांचवें दिन पं. शिवदयाल भार्गव भृगुकुंज पीपलखेड़ी ने कहा कि श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं के माध्यम से सुखदेवजी ने महाराज परीक्षित को भगवान के सहज स्वरूप का ज्ञान कराया।

सुखदेवजी कहते हैं कि भगवान केवल सहजता से ही प्रसन्न होते हैं, भगवान को आडंबर एवं बनावटीपन से कभी नहीं पाया जा सकता है। ब्रज की गोप गोपी छल कपट से रहित थे, उनका मन सच्चा था। सरल हृदय से भगवान हमारे निकट होते हैं। उन्होंने कहा कि अज्ञान का आवरण हटना ही भगवान का अवतार है। जिस प्रकार किसी वस्तु के ऊपर धूल की परत होने से उसको पहचानना संभव नहीं है। उसी प्रकार जब तक हमारे मानस पटल पर अज्ञान रूपी धूल पड़ी है हम अवतार के रहस्य नहीं समझ सकते हैं। सत्संग के द्वारा जब हमारा अज्ञान समाप्त हो जाता है, तब हमें भगवान के वास्तविक स्वरूप का ज्ञान होता है। यही ज्ञान हमें अवतार रहस्य समझने में सहायता करता है। उन्होंने कहा कि सुखदेवजी कहते हैं कि कंस अपनी मृत्यु से भयभीत था। जब उसने देवकी की आठवीं संतान के रूप में उस कन्या को मारना चाहा तो वह कन्या उसके हाथ से छूटकर आकाश में चली गई और दुर्गा के रूप में कंस को उसकी मृत्यु का रहस्य बतलाया।

आशय यह है कि हम अपने स्वार्थ में इतने अंधे हो जाते हैं कि हमें बुरे भले का कुछ भी ध्यान नहीं रहता है। जब तक वसुदेव के साथ श्रीकृष्ण रहे तब तक उनके बंधन खुले रहे और जैसे ही उनका साथ छोड़ा तो पूर्ण बंधन लग गए। आज बड़े ही श्रद्धा से भक्तों ने गोवर्धन पूजन एवं छप्पन भोग के दर्शन किए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें