पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिजली संशोधन बिल-2020:बिजली के दामों में वृद्धि व निजीकरण के खिलाफ प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा

गुना24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बिजली संशोधन बिल-2020, बिजली के दामों में वृद्धि व बिजली के निजीकरण के खिलाफ सोशलिस्ट यूनिटी सेन्टर ऑफ़ इंडिया(कम्युनिस्ट) पार्टी की गुना इकाई ने राज्य व्यापी विरोध दिवस के तहत बुधवार को विद्युत वितरण कम्पनी के सामने प्रदर्शन कर ज्ञापन दिया। साथ ही बढ़े हुए बिजली बिलों को लेकर इस तरह के सांकेतिक प्रदर्शन गुना के कई कालोनी और मोहल्लों में आयोजित किए गए।

जिला कमेटी सदस्य लोकेश शर्मा ने कहा कि “बिजली एक अति आवश्यक सेवा है जो आज हर व्यक्ति के जीवन में पेयजल, भोजन, शिक्षा, इलाज की ही तरह महत्वपूर्ण हो गई है, इसलिए सरकारें अभी तक बिजली उपलब्ध कराना स्वयं की जिम्मेदारी मानती रही हैं, किंतु केन्द्र सरकार द्वारा बिजली कानून में बदलाव कर 2003 से ही बिजली को सेवा क्षेत्र से व्यवसाय के क्षेत्र में बदला जा रहा है।

कोरोना महामारी ने हालात और भी बदतर कर दिए हैं। ऐसी स्थितियों में बिजली के बिलों पर राहत की मांग आम जनता और दुकानदारों के द्वारा की जा रही थी। किंतु सरकार द्वारा कठोरता के साथ बिजली के मूल्य लगातार बढ़ाए जा रहे हैं।

वहीं श्रमिक संगठन जनता यूनियन और यूटीयूसी के प्रदेश उपाध्यक्ष नरेंद्र भदौरिया ने कहा कि “जून के महीने में उपभोक्ताओं के बिजली के बिल आश्चर्यजनक ढंग से भारी भरकम बढ़ा कर दिये गए हैं। इसके साथ ही एक ही महीने में दो बार रीडिंग ली गई। एक ही महीने के अंदर बिजली के बिलों को कई गुना बढ़ा कर दिया गया है।

खबरें और भी हैं...