गुना में मंगलवार को दाखिल हुए दो नामांकन:एक सरपंच और एक जिला पंचायत सदस्य पद के लिए हुआ नामांकन; दोनों नामांकन महिलाओं के

गुनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्टर कार्यालय में जिला पंचायत सदस्य पद के लिए हुए पहला नामांकन। - Dainik Bhaskar
कलेक्टर कार्यालय में जिला पंचायत सदस्य पद के लिए हुए पहला नामांकन।

गुना। त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव में मंगलवार को नामांकन का उद्घाटन हो गया। इस दौरान एक उम्मीदवार ने सरपंच पद के लिए और एक ने जिला पंचायत सदस्य के लिए नामांकन दाखिल किया। जिला पंचायत सदस्य के लिए पहला नामांकन भाजपा मंडल अध्यक्ष की पत्नी ने भरा। वहीं सरपंच पद के लिए अनुसूचित जाति वर्ग से एक महिला ने दाखिल किया। इस दौरान उम्मीदवारों ने मंगलवार और एकादशी का दिन चुना।

सोमवार से पंचायत चुनाव के पहले चरण के लिए नामांकन शुरू हो गए। हालांकि पहले दिन किसी भी उम्मीदवार ने नामांकन दाखिल नहीं किया था। नामांकन के लिए बनाए गए केंद्रों पर केवल फॉर्म लेने के लिए इच्छुक उम्मीदवार पहुंचे थे। अधिकतर उम्मीदवार सुप्रीम कोर्ट के फैसले के इंतजार में हैं। उसी के बाद उनकी उम्मीदवारी तय हो पाएगी। सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को सुनवाई हुई। कोर्ट ने अब बुधवार की तारीख दी है। वहीं पहले चरण के नामांकन के लिए 10 जोनल केंद्र बनाए गए हैं।

पहले नामांकन दोनों महिलाओं के

मंगलवार को हुए दोनों नामांकन महिलाओं के ही हुए। जिला पंचायत सदस्य के लिए वार्ड क्रमांक 1 बजरंगगढ़ से रचना धाकड़ ने अपना नामांकन दाखिल किया। वे BJP के बजरंगगढ़ मंडल अध्यक्ष संजीव धाकड़ की पत्नी हैं। अपने समर्थकों के साथ वे कलेक्टर कार्यालय पहुंची। जिला पंचायत के लिए कलेक्टर कार्यालय में ही रिटर्निंग ऑफिसर का कार्यालय बनाया गया है। वहां पहुंचकर उन्होंने अपना नामांकन दाखिल किया।

दूसरा नामांकन सरपंच पद के लिए हुआ। बजरंगगढ़ पंचायत के सरपंच पद के लिए सावित्री बाई ने अपना नामांकन दाखिल किया। वह अनुसूचित जाति वर्ग से आती हैं। 2014 के आरक्षण के हिसाब से यह सीट SC वर्ग के लिए आरक्षित है। वहीं 2019 में हुए आरक्षण(जिसे सरकार ने निरस्त किया है) में यह सीट सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित हो गयी थी। सावित्री बाई अपने समर्थकों के साथ पंचायत भवन पर बनाये नामांकन केंद्र पर पहुंचीं और अपना नामांकन दाखिल किया।

शुभ दिन देखकर भरा नामांकन

प्रत्याशियों ने मंगलवार का शुभ दिन देखकर अपनर नामांकन दाखिल किये। एक तो मंगलवार का दिन था और दूसरा एकादशी होने से भी शुभ मुहूर्त बन गया था। प्रत्याशी ब्राह्मणों से शुभ मुहूर्त पता करने के बाद अपने-अपने नामांकन दाखिल करने पहुंचे। उनके बताए समय के अनुसार ही उम्मीदवारों ने अपने नामांकन दाखिल किए।

खबरें और भी हैं...