पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बुक बैंक:अब गांव में छात्र-छात्राएं ही नहीं, बुजुर्ग भी पढ़ सकेंगे बुक बैंक से किताबें

गुना9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ग्राम विजयपुर में निशुल्क छोटा चौपाल बुक बैंक स्थापित किया गया है। - Dainik Bhaskar
ग्राम विजयपुर में निशुल्क छोटा चौपाल बुक बैंक स्थापित किया गया है।
  • ग्रामीणों को बुक बैंक बनाकर उपहार में दी खेती, बाल साहित्य व सामाजिक साहित्य की पुस्तकें

ग्राम विजयपुर में निशुल्क छोटा चौपाल बुक बैंक और हनुमान मंदिर में एक छोटा धर्म ज्ञान बुक बैंक स्थापित किया गया है। इससे ग्रामीणजन इन बुक बैंकों की पुस्तकों से धर्म व संस्कृति का अध्ययन कर मानवता व सामाजिक विकास में हिस्सेदारी कर सकेंगे।

पर्यावरण केंद्र के कार्यकर्ता सुचेता सिंह व हंबीर सिंह ने बताया कि वह कई बार आसपास के गांवों में पर्यावरण जागरूकता अभियान व पौधरोपण के लिए जाते हैं तो कई बार देखा कि अक्सर अधेड़ उम्र व बुजुर्ग चबूतरों पर बैठे ताश चौपड़ आदि खेलते दिखते थे और बच्चे भी इन्हें देखकर इस तरह समय बिताते दिखते थे, लेकिन कुछ वर्ष पहले हमने विजयपुर गांव में उन ग्रामीणजनों से चौपाल बुक बैंक खोलने की बात कही तो ग्रामीणों ने इसमें सहमति जताई।

ग्रामीणों ने बताया कि हमारे गांव के मंदिर पर पिछले 2 वर्ष से प्रतिदिन का रामायण पाठ होने लगा है। वहीं एक बुक बैंक खोल दिया जाए। ग्रामीणों की सहमति से दो स्थानों पर 246 धार्मिक, खेती, बाल साहित्य व सामाजिक साहित्य से संबंधित पुस्तकें गांववालों को निस्वार्थ भाव से समर्पित करके यह बुक बैंक खोला गया है। हम्बीर सुचेता सिंह पर्यावरण व सामाजिक कार्यकर्ता ने बताया कि वर्तमान समय में लोग किताबों से दूर होते जा रहे हैं जो एक सामाजिक चिंता का विषय है। इस प्रयास से लोगों को लाभ मिल सकेगा। सभी सामाजिक व धार्मिक पुस्तकें वर्तमान में बिगड़ते प्राकृतिक संतुलन, सामाजिक पर्यावरण व मानवीयता की परिस्थितियों को सुधारने में सहयोगी साबित होंगी।

आमजन इनके अध्ययन द्वारा स्वयं की परिस्थितियों को संवारने व प्रकृति के साथ जुड़ने के लिए पुस्तकों का सदुपयोग करेंगे और सद्भावना के साथ दूसरों के मानवीय स्तर को उठाने में भी सहयोग करेंगे। इसी के साथ ही यह पुस्तकें बच्चों के सुसंस्कार विकास में भी उपयोगी होंगी।

खबरें और भी हैं...