लाइनमैन की करंट से मौत पर ऑपरेटर को सजा:बिजली ठीक करते समय लाइन चालू की थी, कोर्ट ने माना दोषी

गुनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लाइनमैन की करंट लगने से हुई मौत के मामले में अदालत ने ऑपरेटर को दोषी माना। पुलिस जांच में पाया गया था कि बिजली ठीक कर रहे लाइनमैन की करंट से मौत हुई। जबकि फीडर से इसे बंद कराया गया था। ऑपरेटर ने उतावलेपन में आकर बिजली चालू कर दी। जिससे लाइनमैन तारों से चिपक गया। न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी राधाैगढ़ ने लाइनमैन ओमप्रकाश की करंट लगने से हुई मौत के मामले में ऑपरेटर जगदीश शर्मा को धारा 304 ए में एक वर्ष की सजा एवं एक हजार अर्थदण्ड ठोका है। सहायक मीडिया सेल प्रभारी एवं सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी मयंक भारद्वाज ने बताया कि राधेश्याम नरवर ने चौकी मधुसूदनगढ़ में 6 फरवरी 2015 को शाम 6.30 बजे गुना रोड पर अाकर देखा कि बिजली ट्रांसफार्मर पर बिजली विभाग का कर्मचारी ओमप्रकाश विश्वकर्मा ट्रांसफार्मर पर बिजली के तारों से चिपका है। इस मामले में जांच के बाद ऑपरेटर जगदीश शर्मा पर मामला दर्ज किया गया। लाइनमैन बिजली ठीक कर रहा था, उस अवधि में अचानक ऑपरेटर से लाइन चालू कर दी।

खबरें और भी हैं...