पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 घंटे किसानों का प्रदर्शन:पुलिस ने हाईवे पर 6 जगहों पर वाहन रोके जिससे धरना जारी रहे, व्यवस्था भी बनी रहे

गुनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • समर्थन में वामपंथी और राजनीतिक पार्टियां भी आईं

कृषि कानूनों के खिलाफ देशव्यापी चक्काजाम आंदोलन गुना में शांतिपूर्ण रहा। बिलोनिया बायपास तिराहे पर दोपहर 12 से साढ़े 3 बजे तक धरना चला। हाल के सालों में हाईवे पर चक्काजाम का यह सबसे बड़ा आंदोलन रहा। खास बात यह रही कि इसमें किसी तरह का कोई उपद्रव या टकराव की नौबत नहीं आई।

इसमें पूर्व सीएम व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह भी लगभग आधे घंटे तक शामिल रहे। इस विरोध प्रदर्शन में सभी वामपंथी दल, ट्रेड यूनियन, आम आदमी पार्टी आदि के कार्यकर्ता भी शामिल हुए। धरनास्थल पर एडीशनल एसपी, सीएसपी, एसडीओपी की अगुवाई में भारी पुलिस बल था। वहीं 6 पटवारियों की ड्यूटी भी लगाई गई थी। हालांकि पूरे आंदोलन के दौरान किसी भी तरह से टकराव की नौबत नहीं आई।

4 खास नजारे

  • धरनास्थल पर लगी वाहनों की लाइन के सबसे आगे वाले ट्रक ड्राइवर ने प्रदर्शनकारियों से एक तिरंगा ले लिया।
  • शहर से करीब 6 किमी दूर प्रदर्शनस्थल पर पीने के लिए पानी तक नहीं था। इसी दौरान एक व्यक्ति अपनी मोटर साइकल के पीछे गुमठी बांधकर मौके पर पहुंच गया। कुछ ही देर में वहां पकोड़ी आदि बनने लगे और देखते ही देखते पुलिस व प्रदर्शनकारी उसके पास पहुंचने लगे।
  • मौके पर पानी का एक टैंकर भी पहुंचाया गया था। प्रदर्शनकारियों ने बताया कि संभवत: प्रशासन की ओर से ही इसका इंतजाम किया गया होगा।

कृषि बिल के विरोध में किसान आंदोलन के समर्थन एबी रोड पर चक्काजाम का आयोजन किया गया। दूसरे चित्र में एक दुकानदार अपनी नाश्ते की गुमठी को मोटर साइकिल से बांधकर लेआया जिसके खुलते ही उस पर लोगों की भीड़ लग गई।

दोनों ओर की रणनीति से सब शांति से निपटा

प्रशासन : पुलिस का चक्काजाम
शुरुआत में टकराव के संकेत ... सुबह तक अटकलें लगाई जा रही थीं कि हाईवे पर इतना लंबा चक्काजाम शायद न होने दिया जाए। तहसील के सामने किसान व अन्य संगठनों के धरनास्थल पर पुलिस ने अपना वाहन लाकर खड़ा कर दिया था।
जी हां, शनिवार काे दो चक्काजाम हुए। एक तो कृषि कानून विरोधियों का और दूसरा पुलिस प्रशासन का रणनीतिक स्तर पर। दरअसल 12 बजे के आसपास जिले के अलग-अलग जगहों पर पुलिस ने लोड वाहनों को रुकवाना शुरू कर दिया था। इसके पीछे वजह थीं वाहनों की लंबी लाइन से आंदोलन के पक्ष में संकेत जाते। दूसरा ट्रैफिक सामान्य होने में कम से कम 5-6 घंटे लग जाते।

आंदोलनकारी : सवारी वाहनों को नहीं रोका, छोटे वाहन भी जाने दिए
आंदोलनकारियों ने भी लचीला रुख बनाए रखा। पहले से तय रणनीति के मुताबिक किसी भी सवारी वाहन यानि बस आदि को नहीं रोका गया। अन्य छोटे सवारी वाहन जैसे कार, जीप, ऑटो को भी जाने दिया गया। इसी दौरान छोटे लोड वाहन ने निकलने की कोशिश की तो कुछ देर के लिए बहसबाजी के हालात बन गए। वाहन के ड्राइवर ने कहा कि समय पर अगर सामान नहीं पहुंचाया तो उसे नुकसान होगा। उसकी स्थिति भी एक मजदूर जैसी ही है। इस तर्क से सहमत होकर उसे निकलने दिया गया।

कौन क्या बोला...

बॉलीवुड सितारों पर दबाव डालकर ट्वीट करवाए: दिग्विजय
धरनास्थल पर पहुंचे राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा कि बॉलीवुड के सितारों पर दबाव डालकर ट्वीट करवाए गए। पत्रकारों द्वारा राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के संबंध में उनसे सवाल किए गए तो उन्होंने कहा कि वह (श्री सिंधिया) मेरे बच्चे समान हैं। इसलिए मेरा आशीष हमेशा उनके साथ रहेगा।

कांग्रेस को सीख लेने की सलाह: वामपंथी
सीपीआई के मनोहर मिराेठा ने कहा कि आज देश में जो राजनीतिक माहौल है, उसके लिए कांग्रेस भी जिम्मेदार है। तथाकथित लिबरल लोगों की लिजलिजी विचारधारा ने ही दक्षिणपंथियों को अपनी जड़ें जमाने का मौका दिया। अब यह लिबरल लोग कट्‌टरपंथियों के खेमे में भाग रहे हैं। सीपीएम के डॉ. विष्णु शर्मा ने कहा कि यह बदलाव की शुरूआत है।


खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें