अब गुना जिला अस्पताल फुल:गेट पर पोस्टर लगाया- नए मरीजों के लिए ऑक्सीजन एवं ऑक्सीजन बेड उपलब्ध नहीं हैं, खाली होने पर भर्ती किया जाएगा

गुना6 महीने पहले

प्रदेश में एक के बाद एक करके अस्पतालों के बाहर बेड फुल होने के पोस्टर चिपकाए जा रहे हैं। अब गुना जिला अस्पताल में एक पोस्टर लगाकर नए मरीजों की भर्ती बंद कर दी है। इससे मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

दरअसल अप्रैल माह में कोरोना मरीजों की रफ़्तार बहुत तेजी से बढ़ी है। अकेले अप्रैल माह में ही जिले में लगभग 1700 मरीज पॉजिटिव आए हैं। जिला अस्पताल में 97 ऑक्सीजन सपोर्ट वाले बेड हैं। यहां 80 प्रतिशत अस्पताल को कोरोना के इलाज के लिए रिज़र्व कर लिया है। ओपीडी को पूरी तरह बंद कर दिया गया है। केवल गंभीर मरीजों का इलाज किया जा सकता है।

यहां पर अब पोस्टर लगा दिया गया है। जिसमें लिखा है- नए मरीजों के लिए ऑक्सीजन एवं ऑक्सीजन बेड उपलब्ध नहीं हैं। उपलब्ध होने पर मरीज को भर्ती कर लिया जाएगा। एक तरफ तो स्वास्थ्य विभाग हेल्थ बुलेटिन के माध्यम से यह दावा कर रहा है की स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या बढ़ रही है। रोज सैकड़ों मरीज स्वस्थ होकर अपने घर जा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ अस्पताल प्रबंधन इस तरह का पोस्टर लगाकर नागरिकों को गुमराह ही कर रहा है।

कोरोना वार्ड के दोनों रास्ते बंद
अस्पताल प्रबंधन की असंवेदनशीलता की हद इस स्तर तक बढ़ गयी है की कोरोना वार्ड को जाने वाले दोनों रास्तों को बैरिकेड लगाकर बंद कर दिया है। एक तरफ के रास्ते को तो जाली लगाकर स्थायी रूप से बंद कर दिया गया है। इसके पीछे अस्पताल का तर्क यह है की अनावश्यक भीड़ उधर न जाए, इस कारण ये व्यवस्था की है।

अस्पताल में आइसोलेशन में मरीजों की संख्या घटी
एक अच्छी बात यह है की बड़ी संख्या में मरीज स्वस्थ होकर घर पहुंच रहे हैं। अस्पतालों के आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की संख्या भी घाट रही है। 26 अप्रैल को जहाँ अस्पतालों में 304 मरीज आइसोलेट थे , 27 अप्रैल को यह संख्या 260 हो गयी। 28 अप्रैल को 242 मरीज एवं 29 अप्रैल को 237 मरीज अस्पतालों के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थे। इन आंकड़ों को देखा जाए तो अस्पताल से मरीज डिस्चार्ज हुए हैं। लेकिन नए मरीजों को भर्ती नहीं किया गया है। जब मरीज ठीक होकर घर पहुंच रहे हैं तो ऐसी स्थिति में जो बेड खाली हो रहे हैं, वह तो नए मरीजों को दिए ही जा सकते हैं।

खबरें और भी हैं...