• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Guna
  • Rescued One Month Old Baby Girl Lying On The Cot With Her Mother; NDRF Team Brought 95 Year Old Woman In Her Arms

20 घंटे में 200 जानें बचाने की INSIDE STORY:SP ने कहा- चैलेंज बड़ा था, 1 महीने की बच्ची को मां के साथ खाट पर लेटी हालत में ही लाए; 95 साल की बुजुर्ग को गोद में उठाया

गुना2 महीने पहलेलेखक: आशीष रघुवंशी
तीन महीने की बच्ची को रेस्क्यू के बाद गोद में उठाए कलेक्टर-एसपी।

गुना जिले में शनिवार का दिन रेस्क्यू ऑपरेशन का रहा। एक तरफ बमोरी क्षेत्र के सोढ़ी गांव में NDRF ने 200 लोगों को रेस्क्यू किया। वहीं, SDRF ने सिंध नदी के उफान में फंसे पीलीघाटा में मंदिर के पुजारी को सुरक्षित निकाला। सोढ़ी में चलाए गए रेस्क्यू ऑपरेशन में सबसे उम्रदराज 95 साल की बुजुर्ग का और सबसे कम उम्र की 1 महीने की बच्ची का रेस्क्यू किया। बच्चे के साथ उसकी मां को खटिया पर ही लेकर आना पड़ा। सभी लोगों को छबड़ा के राहत शिविर में रखा गया है। इससे पहले शुक्रवार को शहर में 10 लोगों को SDRF ने निकाला था।

सबसे मुश्किल भरे हालात सोढ़ी गांव के थे। बारिश की शुरुआत से ही यह गांव टापू बन जाता है। हर साल जब भी पार्वती में जलस्तर बढ़ता है, यह गांव चारों तरफ से पानी से घिर जाता है। यहां से निकाले गए 200 लोगों के 20 घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन की कहानी SP राजीव कुमार मिश्रा ने दैनिक भास्कर को बताई।

"शुक्रवार दोपहर बाद सोढ़ी गांव के लिए निकले। पहले बमोरी क्षेत्र में जो परिस्थितियां बन रही थीं, वह सब देखा। इसके बाद पहली बार सोढ़ी के लिए रवाना हुए, तो धरनावदा के आगे पुलिया पर बाढ़ आई हुई तो वहीं अटक गए। आगे नहीं जा पाए। उसके बाद में बांसाहेड़ा और सानई की तरफ से जाना पड़ा। यहां से रास्ता लंबा था। यह साफ था कि फतेहगढ़ से तो जा नहीं पाएंगे, क्योंकि वहां जाम था।"

"यह तय हो गया था कि छबड़ा की तरफ से जाकर ही रेस्क्यू किया जा सकता है। जब छबड़ा के पास पहुंचे, तो वहां 3-4 किमी पहले पुलिया बनी थी, वह भी चढ़ी हुई मिली। वहां रात 8 बजे के आस-पास पहुंचे। काफी देर तक वहां भी खड़े रहे। उस पुलिया के पानी को निकलने में भी काफी समय लग रहा था। वहां से अगर लौट आते तो आज का काम नहीं हो पता। फिर हमने तय किया की कैसे भी जाएंगे।"

"वहां पूछा तो यह पता चला कि पुलिया की एक तरफ के जो खेत हैं,वो थोड़े ऊंचे हैं। उन खेतों से दूसरी तरफ जाया जा सकता है। वहां से सभी लोगों ने जूते उतारे और खेतों से निकले। खेतों में भी घुटनों तक पानी-कीचड़ तो था ही। 2 किमी से ज्यादा पैदल चलना पड़ा। उसके बाद पुलिया पार हो पाई। पहले से ही राजस्थान के छबड़ा कलेक्टर और SP से बात की हुई थी, तो उनकी गाड़ियां लेने आ गईं। उनके अधिकारी भी आ गए थे।"

"वहीं, राजस्थान में NDRF की टीम भी मिल गई थी। इधर, मध्यप्रदेश में NDRF टीम को भी बता दिया था कि कहां आना है। वह भी पीछे से ही आ रही थी। वो भी उसी पुलिया के पॉइंट पर आकर अटक गई थी। लेकिन, यह था कि रात में इन्हें भी क्रॉस करवा लेंगे। देर रात में सभी लोग जहां बेस कैंप बनाना था वहां पहुंच गए। जिस कैलाशपुरी गांव में कैंप कर रेस्क्यू ऑपरेशन करना था, वहां भी काफी पानी भरा हुआ था। चारों तरफ अंधेरा था, इसलिए सभी ने यह तय किया की सुबह ही रेस्क्यू करेंगे। अभी काफी मुश्किल होगी।"

महिला और उसकी एक महीने की बच्ची को रेस्क्यू करती हुई टीम।
महिला और उसकी एक महीने की बच्ची को रेस्क्यू करती हुई टीम।

"सुबह 5 बजे से ऑपरेशन शुरू हुआ। राजस्थान और मध्यप्रदेश की NDRF पहुंच गई थी। हेलिकॉप्टर के लिए भी बता रखा था ,वहां से भी क्लियरेंस हो गया था कि 8 बजे वह पहुंचकर ऑपरेशन चालू कर देंगे। पर हेलिकॉप्टर में कम लोग ही आ सकते हैं ,तो नाव की व्यवस्था भी की हुई थी। नाव चलने ही वाली थी कि हेलिकॉप्टर आ गया। इसी दौरान एक और समस्या आ गई। रात में पानी रुक गया, तो गांव वाले आने को तैयार नहीं हुए। वो कहने लगे कि पानी उतरने लगा है, इसलिए हम अब नहीं आएंगे।"

"रेस्क्यू के लिए हेलिकॉप्टर ऊपर उड़ रहा था और इधर गांव वाले मना करने लगे। हेलिकॉप्टर को ज्यादा रोका भी नहीं जा सकता। गांव वालों को कलेक्टर और हमने मौसम की स्थिति और क्या उनके लिए व्यवस्था बताई तब जाकर वे संतुष्ट हुए।"

"उसके बाद हेलिकॉप्टर से पहली खेप लिफ्ट कराई गई। इधर, नाव तैयार थी, उससे भी लोगों को निकलना शुरू हुआ। सभी को स्कूल में बने कैंप में उतरा गया। इसी बीच फिर ग्रामीण मना करने लगे। हेलिकॉप्टर को वह स्कूल दूर पड़ रहा था। उनका कहना था कि कोई पास का पॉइंट बनाइए जहां उतरा जा सके, क्योंकि फ्यूल बहुत ख़त्म होता है दूरी में। ऐसे में फिर ज्यादा चक्कर नहीं लग पाएंगे। तुरंत ही पास में तालाब पार करके एक खेत था, वहां तय किया गया। उस खेत पर हेलिकॉप्टर से सबको उतारना शुरू हुआ। हेलिकॉप्टर ने 6 राउंड लगाए। इसमें लोगों को लिफ्ट करके लाया गया।"

"इस दौरान 95 साल की वृद्ध महिला को लाया गया। उनसे तो चलते भी नहीं बनता था। NDRF की टीम ने उन्हें गोदी में उठाकर कैंप तक पहुंचाया। एक महिला और उसके 1महीने के बच्चे को लाने में परेशानी आ रही थी, तो उन्हें खटिया पर ही लाया गया। उन्हें नाव पर ही खटिया पर लिटाकर लाया गया। इसी तरह से लगभग 200 लोग रेस्क्यू किए गए।"

"कैंप पर ही गाड़ियां तैयार थीं, जिससे उन्हें छबड़ा में बनाए गए राहत शिविर में पहुंचाया गया। बुजुर्ग महिला, मां और तीन माह के बच्चे को सिविल हॉस्पिटल ही भिजवा दिया गया। 4 घंटे में रेस्क्यू ऑपरेशन पूरा किया गया, लेकिन इसकी तैयारियों, पूरा रेस्क्यू ऑपरेशन और उसके बाद राहत शिविर तक का पूरा ऑपरेशन लगभग 20 घंटे में पूरा हुआ।"

खबरें और भी हैं...