पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Guna
  • Rs 15 Lakh Was Taken Out To Get The Puddle Built, Not A Single One Was Made On The Spot; In Response To The Notice, The Sarpanch Said The Employment Assistant Took Out The Amount

6 साल तक चुनाव नहीं लड़ सकेंगी सरपंच शीलाबाई:पोखर बनवाने निकाल लिए 15 लाख रुपये, मौके पर एक भी नहीं बना; नोटिस के जवाब में सरपंच बोलीं- रोजगार सहायक ने निकाली राशि

गुना10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जिला पंचायत CEO ने सरपंच शीलाबाई को पद से हटाते हुए अगले 6 साल तक उनके चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी है। - Dainik Bhaskar
जिला पंचायत CEO ने सरपंच शीलाबाई को पद से हटाते हुए अगले 6 साल तक उनके चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी है।

गुना। जिले के चांचौड़ा क्षेत्र के नारायणपुरा की शीला बाई अब अगले 6 साल तक चुनाव नहीं लड़ पाएंगी। जिला पंचायत CEO ने उन्हें सरपंच पद से हटाते हुए अगले 6 साल तक उनके चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी है। उन पर 15 लाख रुपये की राशि निकालकर विकास कार्य नहीं करने के आरोप लगे थे, जिसके बाद जांच में वह दोषी पाए गईं। मंगलवार को न्यायालय मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने उन्हें दोषी मानकर सजा सुनाई।

दरअसल मामला यह है कि ग्राम पंचायत नारायणपुरा में कई कामों के पैसे निकाल लिए जाने और मौके पर काम नहीं होने की शिकायत की गई थी। शिकायत में कहा गया था कि संरपच शीलाबाई द्वारा मनरेगा योजना अन्तर्गत 4 पोखरों की राशि निकाल ली है, लेकिन यह पोखर बनाये नहीं गए हैं। यह चार पोखर सर्जन सिंह के खेते के पास, खो आश्रम के पास, हनुमान मंदिर के पास और हनुमान मंदिर के सामने बनने थे। इनके निर्माण के लिए 15 लाख रुपये सरपंच ने निकाल लिए और काम नहीं किया।

इस शिकायत पर सरपंच के खिलाफ मामला दर्ज किया गया और उन्हें नोटिस जारी किया गया। नोटिस के जवाब में सरपंच शीलाबाई ने जवाब में बताया कि उनके द्वारा राशि नहीं निकली गयी है। पूरे पैसे ग्राम रोजगार सहायक ने निकले हैं। उनके पास डोंगल भी नहीं है जिसके द्वारा राशि निकाली जा सकती है। उनका डोंगल रोजगार सहायक के पास ही रहता है। सरपंच ने अपने जवाब में कहा कि वह अनपढ़ हैं और गांव में भी नहीं रहती है। उन्होंने इस आधार पर नोटिस को निरस्त करने की बात कही।

सरपंच अपना डोंगल नहीं दे सकता

सरपंच के जवाब पर गौर करने के बाद कई बातें सामने आयीं। सबसे पहले तो सरपंच अपना डोंगल ऐसे किसी को भी नहीं दे सकता। यह कार्य लापरवाही में आता है। इसके अलावा पंचायत में जो भी काम होते हैं, वह सरपंच की जानकारी के बिना हो ही नहीम सकते। सरपंच को हर निर्माण कार्य की जानकारी होती है। वहीं बिना सरपंच के हस्ताक्षर के राशि निकाली ही नहीं जा सकती। ऐसा संभव ही नहीं है कि पंचायत में निर्माण कार्यों की राशि निकाल ली जाए और सरपंच को पता ही न चले।

6 वर्ष नहीं लड़ सकेंगी कोई चुनाव

न्यायालय मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने सरपंच शीलाबाई के जवाब को संतुष्टिपूर्वक नहीं माना और उन्हें सरपंच पद से हटाने का आदेश दिया है। न्यायालय ने अपने आदेश में यह भी कहा है कि अब अगले 6 वर्षों तक शीलाबाई कोई भी चुनाव नहीं लड़ सकेंगी। उनके चुनाव लड़ने पर रोक रहेगी। न्यायालय ने कहा कि अपना डोंगल किसी और को देना अनियमितता की श्रेणी में आता है।

खबरें और भी हैं...