पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आग में (मौसम) का घी:40 किमी की गति से चली हवा से शार्ट सर्किट15 गांवों में 300 बीघा में खड़ी गेहूं की फसल आग से जली

गुनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गुना, आरोन, राघौगढ़ और बमोरी ब्लॉक में सबसे ज्यादा नुकसान

मंगलवार को करीब 15 गांवों में आग के कारण 300 बीघा से ज्यादा फसल के साथ पशुओं का चारा भी जल गया । सभी जगहों से आग लगने की एक ही वजह सामने आ रही है - बिजली की तारों के आपस में टकराने से निकली चिंगारी। इसमें मौसम ने घी का काम किया, क्योंकि दिन में पहली बार पारा 40 के पार 41 डिग्री पर पहुंच गया था। गर्म पश्चिमी हवा की रफ्तार 20 से 40 किमी प्रति घंटे के बीच थी। इन हालात में पूरी तरह सूख चुकी फसलों को आग की लपटों में घिरने के लिए बस एक चिंगारी की ही जरूरत थी। तेज हवा से बिजली के तारों के आपस में टकराने के कारण यह चिंगारी भी मिल गई। ऐसा संभवत: पहली बार हुआ होगा कि आग के कारण एक हाईवे का ट्रैफिक ही रुक जाए। जिला मुख्यालय से 33 किमी दूर झागर के पास गुना-फतेहगढ़ स्टेट हाईवे पर ऐसा ही हुआ। यहां दोपहर 2 बजे हाईवे के पास के खेत में नरवाई, भूसा और एक बाइक में आग लग गई। इसके बाद करीब 30 मिनट तक हाईवे पर वाहनों की आवाजाही रुक गई।

राजस्थान में आग और बमोरी के 3 गांवों के किसान दहशत में
मंगलवार को तो ऐसा लग रहा था कि मानो चारों ओर से आपदा टूट पड़ी। बमोरी के तीन सीमावर्ती गांवों पर राजस्थान के सिरसोद में लगी आग से दहशत फैल गई। देर शाम 6 बजे तक हालात पर कोई काबू नहीं था। मौके पर तहसीदार, पटवारी, सचिव आदि पहुंच गए थे। छिकारी, बिसोनिया, वरवन बमूरिया आदि के दर्जनों किसान बुरी तरह से दहशत में हैं। अधिकारियों का कहना है कि राजस्थान और इन गांवों के बीच एक नदी है। उम्मीद की जा रही है कि आग इस तरफ नहीं आएगी।
रिझेरा के जंगलों में आग : 1 किमी दूर फंसी फायर ब्रिगेड
सूचना मिली कि रिझेरा की पहाड़ी पर जंगल में आग लग गई है। यहां के करीब 5-6 गांव के किसानों की धड़कनें इससे बढ़ गईं। उन्हें चिंता थी कि कहीं यह आग बढ़ते-बढ़ते उनके खेतों को चपेट में न ले ले। बताया जाता है कि वहां पर फायर ब्रिगेड पहुंची लेकिन आग वाली जगह से 1 किमी पहले ही फंस गईं।

इन गांवों में लगी आग : भुलाय, हरिपुर, बिलोनिया, बजरंगगढ़, सुहाया, खेजरा, रिझेरा, पाटई, बिलोनिया, वरवन बमूरिया, छिकारी, भीलाझिरी, पनवाड़ी, खेजरा आदि।

बिजली बनी विलेन : किसान चाहते हैं कटाई के दौरान बंद रहे पंप कनेक्शन की बिजली
दो माह पहले जिस बिजली ने फसलों को पानी का पोषण दिया, वही अब विलेन बन गई। किसान खुद चाहते हैं कि फसलों की कटाई के वक्त पंप कनेक्शन पर बिजली की सप्लाई बंद रहे। उन्हें चिंता रहती है कि इससे फायदा तो होगा नहीं उलटे नुकसान की आशंका रहेगी। इसके बावजूद बिजली की सप्लाई नहीं रोकी गई। राघौगढ़ के भुलाए गांव के किसानों ने कहा कि हमने कई बार बिजली बंद रखने का अनुरोध लेकिन किसान ने सुनवाई नहीं की।

सुहाया : फायर ब्रिगेड नहीं पहुंची, तीन गांव के किसानों ने ट्रैक्टरों से हकाई करके काबू की आग
गुना-फतेहगढ़ स्टेट हाईवे के पास सुहाया गांव में लगभग ढाई बजे नरवाई से आग भड़की। आसपास के 2-3 गांव के लोग अपने-अपने ट्रैक्टर लेकर मौके पर पहुंचने लगे। उन्होंने बताया कि नरवाई में किसी ने आग नहीं लगाई थी, क्योंकि आसपास के खेतों में फसल अभी कटी नहीं थी। यह बिजली की वजह से ही लगी। इसी गांव के किसान बनवारी साहू का खेत भी वहीं था। आग फैलने की खबर सुनकर वह बाइक लेकर खेत पर पहुंचे। वह उधर अपनी फसल बचाने में लगा था। इधर बाइक जल गई।
दर्द : मेरी फसल तबाह हो रही है और अधिकारी कहते हैं कि दमकल नहीं है
दोपहर करीब 3 बजे नगर पालिका के सामने बेहद गुस्से में अधिकारियों पर लानते भेजता एक शख्स। पता चला कि वह खेजरा का किसान है और उसके खेत में आग लगी हुई है। वह खुद बाइक पर बैठक 8 किमी दूर नपा तक आया। यहां उसे जवाब मिला कि फायर ब्रिगेड बिलोनिया, पाटई, रिझेरा आदि इलाकों में लगी आग बुझाने गई हैं। यह सुनकर किसान भड़क गया और नपा अधिकारियों के साथ उसकी जमकर तू-तू, मैं-मैं हो गई।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

    और पढ़ें