पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Guna
  • The District President Said There Is More Number Of BJP Workers Now, Administration Should Give Parallel Representation To All Political Parties And Sections Of The Society.

कांग्रेस ने उठाये आपदा प्रबंधन समिति पर सवाल:जिलाध्यक्ष बोले - अभी भाजपाइयों की है ज्यादा संख्या , सभी राजनैतिक दलों और समाज के वर्गों को भी सामानांतर प्रतिनिधित्व दे प्रशासन

गुना13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मीडिया से चर्चा करते कांग्रेस शहरी जिलाध्यक्ष हरिशंकर विजयवर्गीय - Dainik Bhaskar
मीडिया से चर्चा करते कांग्रेस शहरी जिलाध्यक्ष हरिशंकर विजयवर्गीय

गुना में कांग्रेस जिला अध्यक्ष हरिशंकर विजयवर्गीय ने जिला क्राईसिस मैनेजमेंट समूह में सभी राजनीतिक दलों और समाज के वर्गों को समान प्रतिनिधित्व देने की बात कही है। हरिशंकर विजयवर्गीय ने यह बयान रविवार को हुई समिति की बैठक के बाद दिया। उन्होंने कहाकि फिलहाल समिति के अंदर भाजपा के पदाधिकारियों की भागीदारी ज्यादा है। इसलिए कुछ बातें निष्पक्ष तरीके से सामने नहीं आ पाती हैं। फिर भी कांग्रेस पुरजोर तरीके से जनता की समस्या और उनकी बात रख रही है।

रविवार को वर्चुअल तरीके से आयोजित जिला क्राईसिस मैनेजमेंट समिति की बैठक हुई। जिसमें जिला प्रशासन के अधिकारियों के अलावा राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने शिरकत की। बैठक के दौरान एक जून से शुरु होने वाली अनलॉक प्रक्रिया पर चर्चा की गई। इस दौरान तमाम सुझाव आए। जिनमें दुकानों को ऑड-ईवन फॉर्मूले से खोलने के अलावा नानाखेड़ी मंडी में खरीदी के दौरान एहतियात बरतने जैसे प्रस्ताव थे।

जिला कलेक्टर ने बैठक में बताया कि सरकार ने एक जून से अनलॉक के निर्देश दिए हैं, लेकिन अंतिम निर्णय कलेक्टरों के ऊपर छोड़ा है। इसलिए वह बैठक आयोजित कर समिति के सुझाव ले रहे हैं। बैठक में जिला कांग्रेस की ओर से शहर जिला अध्यक्ष हरिशंकर विजयवर्गीय और चांचौड़ा विधायक लक्ष्मण सिंह ने अपनी बात रखी।

बैठक के बाद हरिशंकर विजयवर्गीय ने कहा कि समिति में कांग्रेस के ग्रामीण जिला अध्यक्ष, ब्लॉक अध्यक्ष सहित कई पदाधिकारियों को शामिल किया जा सकता है। ताकि समिति में राजनीतिक दलों का प्रतिनिधत्व समान रूप से हो सके। एक ही दल के लोगों का प्रतिनिधित्व होने से आमजन की समस्या और उनकी बात ठीक ढंग से नहीं उठाई जा पाती है। इसको लेकर जिला प्रशासन को पुर्नविचार करना चाहिए।

खबरें और भी हैं...