गुना में बेटा ही निकला हत्यारा:पिता ने पत्नी का हाथ पकड़ लिया था; गुस्से में आकर कुल्हाड़ी से कर दी हत्या

गुनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की गिरफ्त में हत्या का आरोपी। - Dainik Bhaskar
पुलिस की गिरफ्त में हत्या का आरोपी।

गुना में रिश्तों की मर्यादा टूटी तो युवक ने पिता की हत्या कर दी। पिता बहू को गलत नजरों से देखता था। हत्या के कुछ दिन पहले ही उसकी पत्नी का हाथ पकड़कर छेड़खानी की थी। पत्नी ने जब यह बात अपने पति को बताई तो उसने गुस्से में आकर कुल्हाड़ी से वार कर अपने पिता की हत्या कर दी। युवक ने पुलिस की पूछताछ में अपना जुर्म कुबूल कर लिया है।

मामला 2 अगस्त का है। जिले के म्याना इलाके के सुताई गांव में डॉ सचिन सोनी एवं डॉ अनुपम चौधरी के कृषि फार्म पर बनी टपरिया में उनके बटियादार भागीरथ(55) पुत्र भुज्जी कुशवाह निवासी ग्राम सकतपुर की खून से सनी लाश पड़ी होने की सूचना पुलिस को मिली थी। पुलिस जब मौके पर पहुंची तो शव जमीन पर पड़ा हुआ था और टपरिया का सारा सामान बिखरा पड़ा था। भागीरथ के सिर में पीछे चोट थी और खून बह रहा था। म्याना पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू की। FSL अधिकारी ने भी मौके का निरीक्षण किया। शव का PM कराने के बाद विवेचना शुरू हुई।

SP राजीव कुमार मिश्रा ने बताया कि हत्या के इस प्रकरण में पुलिस द्वारा गहन विवेचना की गयी। शुरुआत में यह लग रहा था कि यह किसी बाहरी व्यक्ति का काम है। टपरिया में खाना बनाने का सामान चारों तरफ बिखरा हुआ पड़ा था। इससे संदेह बाहर के व्यक्ति पर जा रहा था। लेकिन जल्द ही शक की सुई मृतक के बेटे पर ही जाकर रुकी। 26 अक्टूबर को मृतक के बड़े बेटे भोला कुशवाह को हिरासत में लिया और पूछताछ शुरू की। शुरुआत में तो वह गुमराह करता रहा, लेकिन जब सख्ती से पूछताछ हुई तो उसने हत्या की पूरी कहानी उगल दी और अपना जुर्म स्वीकार कर लिया।

पत्नी से की थी छेड़खानी

आरोपी ने पूछताछ में बताया कि 30 जुलाई को उसके पिता ने उसकी पत्नि का हाथ पकड़ लिया था। उससे गलत काम करने का बोला था। उसकी पत्नी ने घटना के 2 दिन बाद उसे इस बारे में बताया। यह बात जब पत्नि ने उसे बताई तो अपने पिता पर बहुत गुस्सा आया। उसी समय अपने पिता को जान से मारने की सोच ली थी। 2 अगस्त की सुबह भोला सकतपुर से ग्राम सुताई स्थित बंटाई वाले खेत पर पहुंचा। जहां उसके पिता टपरिया मे रोटी बना रहे थे। उसने टपरिया के बाहर रखी कुल्हाड़ी को उठाकर पिता के सिर में उल्टी कुल्हाड़ी मार दी। इससे उसके पिता की मृत्यु हो गई। इसके बाद वहां से वह अपने घर ग्राम सकतपुर आ गया था।