• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Guna
  • The Investigation Team Told The Staff Scindia Ji Got So Many Vehicles Started, You Are Still Walking On Bullock Cart; Hospital Management Woke Up Before The Inspection

अस्पताल का कायाकल्प देखने पहुंची टीम:जांच टीम ने स्टाफ से कहा- सिंधिया जी ने इतनी गाड़ियां चलवा दीं, आप अभी भी बैलगाड़ी से ही चल रहे; निरीक्षण से पहले जागा अस्पताल प्रबंधन

गुना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला अस्पताल में निरीक्षण करने पहुंची कायाकल्प की टीम। - Dainik Bhaskar
जिला अस्पताल में निरीक्षण करने पहुंची कायाकल्प की टीम।

गुना। जिला अस्पताल में बुधवार को दोपहर में कायाकल्प की टीम पहुंची। उन्होंने पूरे अस्पताल का निरीक्षण किया। इस दौरान टीम ने सर्जिकल वार्ड के कर्मचारियों से पूछताछ करते हुए उनकी ढीली कार्यप्रणाली पर कटाक्ष किया। टीम के सदस्य ने कहा कि सिंधिया जी ने इतनी गाड़ियां चलवा दी हैं, आप अभी भी बैलगाड़ी से ही चल रहे हो। देश 1947 में आजाद हो गया था। आपका काम करने का ढर्रा अभी भी 70 साल पुराना है। इसे सुधारना पड़ेगा।

जिला अस्पताल में बुधवार की सुबह 10 बजे कायाकल्प की दो सदस्यीय टीम पहुंची, लेकिन जिला प्रशासन और अस्पताल के स्टाफ ने पहले ही हार मान ली। उनका कहना था कि एक बार फिर जिला अस्पताल गुना कायाकल्प की सूची में शामिल नहीं हो पाएगा। उधर, कलेक्टर ने भी माना है कि 65 लाख रुपये की लागत से अस्पताल के जर्जर भवन और टॉयलेट की मरम्मत कार्य कराए जाएगा। अस्पताल प्रशासन ने भी माना है कि बाउंड्रीवॉल से कब्जा हटाने का काम जिला और नपा प्रशासन का है, इस वजह से अस्पताल प्रशासन को यह भी अंक हासिल नही हो पाएगा। वार्डों के हालात ऐसे है कि दुर्गंध की वजह से मरीज परेशान हो रहे है।

थूकने पर 2 हजार रुपये जुर्माना

जिला अस्पताल गुना का राज्यस्तरीय कायाकल्प मूल्यांकन करने जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.देवेश शर्मा और खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ. आलोक शर्मा पहुंचे। उन्होंने पूरे अस्पताल का बारीकी से निरीक्षण किया। इस दौरान अस्पताल की दीवारों पर उन्हें चेतावनी लिखाई दी। इसमे लिखा था जी अस्पताल परिसर में थूकने पर 2 हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। इस पर निरीक्षण टीम ने हैरानी जताते हुए कहा कि इतना ज्यादा जुर्माना लगाने का तो प्रावधान ही नहीं है। यह तो 10 रुपये से 200 रुपये तक बस होना चाहिए। टीम ने पूछा की अब तक कितना जुर्माना लगाया गया तो अस्पताल प्रबंधन कोई जवाब नहीं दे पाया।

टीम के निरीक्षण के पहले सफाई

कायाकल्प की टीम के निरीक्षण से पहले स्वास्थ्य विभाग की नींद खुली। मंगलवार को सुबह से ही अस्पताल में सफाई व्यवस्थाओं सहित बाकी अन्य व्यवस्थाएं की गईं। आनन-फानन में झाड़ू-पोंछा लगवाया गया। साथ ही पूरे परिसर में DDT का छिड़काव कराया गया। अधिकतर गायब रहने वाले सफाई कर्मचारी भी निरीक्षण से पहले अस्पताल परिसर में पहुंचकर सफाई करते हुए नजर आए।

खबरें और भी हैं...