पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

6 गांवों में रहता है अंधेरा:गरीबों को नहीं मिल रहा योजना का लाभ, आज भी बिजली आने का कर रहे इंतजार

गुना19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
राघौगढ़ ग्राम पंचायत गादेर के वासीपुरा में ग्रामीण बिजली समस्या से परेशान हैं। - Dainik Bhaskar
राघौगढ़ ग्राम पंचायत गादेर के वासीपुरा में ग्रामीण बिजली समस्या से परेशान हैं।
  • समस्या}ग्राम पंचायत गादेर का गांव वासीपुरा जो आज भी बिजली आने का कर रहा इंतजार
  • ग्रामीणों ने कहा-फसल के समय सिर्फ चार से पांच माह बड़ी मुश्किल से बिजली देखने को मिलती है

केंद्र सरकार देश भर में सौभाग्य योजना के तहत बिजली पहुंचाने का दावा कर रही लेकिन ग्रामीण जन बिजली की समस्या से परेशान हैं। गांव बिजली पहुंचाने को अपना मिशन बताकर जनता के बीच अपनी पहुंच बनाने में जुटी है। लेकिन राघौगढ़ तहसील क्षेत्र में ग्रामीण बिजली की अव्यवस्था से परेशान है।

जिले की राघौगढ़ ब्लॉक में आने वाला गांव ग्राम पंचायत गादेर का गांव वासीपुरा जो आज भी बिजली आने का इंतजार कर रहा है। इस गांव में सभी भील समाज के लोग रहते हैं। इस गांव में करीब 150 लोगों की बस्ती है। गांव के हटेसिंह भील, कंवरलाल, मोती सिंह, रोडेलाल, दीवान सिंह, बापुलाल, भगवान सिंह, रामप्रसाद, रमेश, सरवन सिंह, ने बताया की हमारे गांव में धनिया, गेहूं की फसल के टाइम पर सिर्फ चार से पांच माह बड़ी मुश्किल से बिजली देखने को मिलती है।

नहीं मिले बीपीएल कनेक्शन
जगदीश, राहुल बामनिया, अंकित, सोनू, मुकेश कुमार भील सरारी ने बताया कि आज तक गांव में बीपीएल कनेक्शन नहीं किए गए। जिससे गांव में अंधेरा ही अंधेरा रहता है। राधौगढ़ जनपद अध्यक्ष प्रतिनिधि रामसिंह भील ने बताया कि ऐसा ही मामला कई पंचायतों में देखने को मिलेगा। ग्राम बेरखेड़ी के गांव बड़ाखेत गांव में भी आज तक बीपीएल कनेक्शन नहीं किए गए। लक्ष्मणपुरा पंचायत के गांव पाटापुरा, बमुरीपूरा गांव भी बिजली के लिए तरस रहा है। जंगल में स्थित बोरखेड़ी गांव में भी सिर्फ सर्दियों के मौसम में बिजली सप्लाई की जाती है।

नहीं हो रही सुनवाई
बिजली के लिए हम लोग मांग कर कर के परेशान हो गए लेकिन कोई भी हमारी नहीं सुनवाई नहीं कर रहा। इन गांवों में ज्यादातर लोग किसानी और खेतों में मजदूरी करके जीवन यापन करते हैं। ग्रामीणों ने कहा बिजली ना होने से बच्चे पढ़ नहीं पाते। कई युवा पढ़े लिखने में कमजोर होने के कारण बेरोजगार घूम रहे हैं। गाँव में सिंचाई की व्यवस्था भी ठीक नहीं है। पूरे इलाके में कोई भी सरकारी ट्यूबवेल नहीं है।

उमस भरी गर्मी में बिजली कटाैती बन रही परेशानी का कारण
मधुसूदनगढ़। मधुसूदनगढ़ क्षेत्र में एक और भीषण गर्मी पड़ रही है वहीं दूसरी और बिजली कटौती ने आम आदमी को परेशानी में डाल दिया है। बुधवार को दिनभर लाइट का आना-जाना लगा रहा। वहीं टेंपरेचर गर्मी का लगभग 38 से 40 रहा तथा दोपहर 3:30 से लाइट गई तो अभी तक नहीं आई।

नगरवासियों ने बिजली विभाग के उच्च अधिकारियों से मांग की है कि मधुसूदनगढ़ अब नगरीय क्षेत्र हो गया है। लगातार लाइट कटौती ने आम आदमी को परेशानी में डाल दिया है। पहले मधुसूदनगढ़ ग्राम पंचायत की तो ग्रामीण हिसाब से बिजली मिलती थी लेकिन नगर पंचायत होने के बाद भी बिजली कटौती से आम नागरिक परेशान हैं। लाइट कटौती को लेकर जूनियर इंजीनियर संजय शाह ने बताया कि 33 केवी का मोतीपुर के पास परमिट लिया है इस कारण बिजली नहीं है।

खबरें और भी हैं...