पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खबर का असर:धूमधाम से शादी हुई तो वर-वधु पक्ष के साथ सरपंच-सचिव भी जवाबदेह

गुना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • भास्कर ने गांवों के हालात का मुद्दा उठाया, कलेक्टर ने दिए निर्देेश

कोराना का हॉट स्पॉट अब शहर से गांवों में शिफ्ट हो रहा है। भास्कर बीते एक हफ्ते से लगातार इस पर ग्राउंड रिपोर्ट कर रहा है। गांव में कोरोना के फैलने की सबसे बड़ी वजह शादी समारोह में जुट रही भीड़ है। अप्रैल के दूसरे पखवाड़े में शादियों के सीजन की शुरूआत के कुछ दिन के भीतर ही गांव में कोरोना के मामले बढ़ने लगे। इसके बावजूद धूमधाम से शादियों का सिलसिला जारी है।

अब कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम ने आदेश दिया है कि किसी भी गांव में अगर शादी के दौरान कोविड प्रोटोकॉल टूटा तो वहां के सरपंच व सचिव भी जिम्मेदार होंगे। मंगलवार को कोविड की दैनिक समीक्षा बैठक में उन्हांेंने तहसीलदारों को कहा कि वे वर-वधु पक्ष के साथ इन लोगों पर भी कार्रवाई करें। नियम के मुताबिक किसी भी शादी में वर-वधु सहित 10 लोग ही शामिल हो सकते हैं। गांव में इसका पालन नहीं हो पा रहा है। हाल यह है कि इन शादियों में शामिल होने वाले लोग दो-तीन दिन बाद ही बीमार पड़ रहे हैं।

बाजार बंद हैं लेकिन खरीदारी फिर भी जारी : इन शादियाें के लिए कपड़े, बर्तन, ज्वैलरी सहित अन्य सामान की खरीदारी भी खूब हो रही है। ग्रामीण इलाकों के नजदीक वाले बड़े कस्बों जैसे राघौगढ़, आरोन, कुंभराज, बीनागंज और यहां तक कि गुना में भी दुकानदार गुपचुप तरीके से सामान बेच रहे हैं। करीब-करीब रोज एक या दो ऐसी दुकानों पर कार्रवाई भी हो रही है। शादियों के लिए जरूरी चीजों की सप्लाई में किसी तरह कोई रोक नहीं लग पा रही है। यहां तक कि टेंट, डीजे जैसी संसाधन भी आसानी से जुटाए जा रहे हैं।

गांवों में कोविड कंट्रोल प्लान

  • डोर-टू-डोर सर्वे कर सामान्‍य बुखार, खांसी, जुकाम से प्रभावित मरीजों को चिन्हित किया जाए
  • उनकी सूची बनाकर दवाओं कि किट दें। यह जानकारी रखें, कि किस दिन बुखार आया था और आज कौन सा दिन है।
  • सर्वे वाले दिन से पांच दिन के भीतर स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार आता है तो ठीक है, नहीं तो निकट के सरकारी अस्‍पताल में दिखवाएं।
  • बुखार, खांसी, जुकाम के अधिक प्रकरण वाले सालोरा, गोदरा, मक्‍सूदनगढ़, जामनेर, मगराना आदि ग्रामों में कैंप लगेंेगे।
खबरें और भी हैं...