पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हाल ए इलाज:ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं पर सिलेंडर यूं पड़े हैं लावारिस, स्टाफ भी नाकाफी

गुना11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • 93 मरीज कोविड वार्ड में भर्ती पर 150 बेड में से मात्र 60 पर ही ऑक्सीजन पाइंट लगे हैं

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर पहले से ज्यादा भयावह है लेकिन इंतजाम पहले से भी कम हैं। 150 बेड में से मात्र 60 पर ही ऑक्सीजन पाइंट लगे हैं। जबकि इस संक्रमण से बचाव की बूटी ही ऑक्सीजन है। इसके बिना तो जिंदगी खतरे में पड़ सकती है। इन बेड की संख्या बढ़ाई जानी है लेकिन इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा है। संक्रमित होकर भर्ती होने वाले मरीजों में डर बना हुआ है, वह आते ही घबरा जाते हैं और मदद मांगते हैं। ऐसी स्थिति में हर मरीज के पास डॉक्टर पहुंचना मुश्किल हो रहा है। गुरुवार को 93 मरीज भर्ती थे। एक शिफ्ट में काम करने वालों में एक डॉक्टर और 4 नर्स रहते हैं। जबकि यह संख्या वर्तमान स्थिति को देखते हुए दोगुनी होनी चाहिए थी। कोरोना की पहली लहर में जो स्टाफ था, अब उससे भी कम कर दिया गया है। जबकि विशेषज्ञ इसे ज्यादा भयावह बता रहे हैं। संक्रमण दर बढ़ने के साथ ही ऑक्सीजन की खपत भी दोगुनी हो गई है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग दावा कर रहा है कि गुना में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी, क्योंकि ऑक्सीजन के दो सप्लायरों से अनुबंध पहले से ही हो चुका है। इस वजह से वर्तमान में मांग के अनुसार पूर्ति हो रही है। इसकी कोई कमी नहीं है।

जहां नहीं, वहां पूछो इसकी कीमत...ऑक्सीजन सिलेंडर की सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं

कोविड वार्ड से भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट...

संक्रमित पछाड़ खाकर गिरा तो डॉक्टर ने बिना पीपीई किट पहने ही परीक्षण किया
कोविड वार्ड का हाल देखने भास्कर टीम पहुंची। वार्ड के मुख्य गेट से ही पूरा नजारा कैमरे में कैद किया। एक मरीज अचानक आया और गेट पर ही पछाड़ खाकर गिरा और बेहोश हो गया। यह देख वहां मौजूद डॉक्टर एवं वार्ड वाय ने अपनी सुरक्षा का ख्याल न रखते हुए मरीज की जान बचाने के लिए दौड़ लगा दी। बिना सुरक्षा यानी पीपीई किट पहने बिना ही इलाज शुरू कर दिया। इस संदिग्ध संक्रमित का ऑक्सीजन सेच्यूरेशन ही 75 पर था। जब भास्कर टीम ने डॉक्टर से चर्चा की तो उन्होंने बताया कि विशेष परिस्थिति में हमने अपनी जान की परवाह न करते हुए मरीज को प्राथमिकता में रखा। उसे तुरंत ऑक्सीजन दी गई। इससे उसे राहत मिली।

भरे ऑक्सीजन सिलेंडर जमीन पर यूं ही पड़े, कोई सुरक्षा के इंतजाम नहीं
संक्रमित के लिए संजीवनी बूटी का काम करने वाली ऑक्सीजन की प्रदेश के कई जिले में किल्लत बनी हुई है लेकिन जिला अस्पताल में स्थिति इसके उलट है। यहां ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है। भास्कर टीम ने जब इन सिलेंडर को रखे जाने वाले स्थलों को देखा तो हैरान करने वाली बात सामने आई। सिलेंडर तो कई जगह जमीन पर ही पड़े हुए हैं। इसकी सुरक्षा तक के कोई इंतजाम नहीं है। पीआईसीयू यूनिट के पास ही एक छोटे से हिस्से में सिलेंडर पाइंट लगे हैं। यहां पर भी कोई सुरक्षा के इंतजाम नहीं है। जबकि इसके लिए अलग से व्यवस्थाएं होनी चाहिए। मेटरनिटी वार्ड के पास तो सिलेंडर जमीन पर ही पड़े हैं।

स्टाफ: एक मात्र एमडी की 24 घंटे सेवाएं
कोविड वार्ड में एक मात्र एमडी सुनील यादव हैं, जो कॉल पर 24 घंटे मौजूद रहते हैं। वहीं वह हर दिन राउंड भी लेते हैं। इसके अलावा 3 शिफ्ट में 3 डॉक्टर और 4-4 नर्सों से काम लिया जा रहा है। वहीं वार्ड वाय, स्वीपर की संख्या एक शिफ्ट में 2 से 3 ही है। जबकि 150 बेड के वार्ड में दोगुना स्टाफ होना चाहिए था।
खपत दोगुनी: हर दिन 8 सिलेंडर होते हैं खर्च, अभी 105 सिलेंंडर भरे रखे हैं
कोविड वार्ड में संक्रमित को ऑक्सीजन सेच्यूरेशन गिरने की वजह से उन्हें ऑक्सीजन की सख्त जरूरत पड़ रही है। गुरुवार को ही एक दिन में ही 8 सिलेंडर की खपत हुई। जबकि पहले 4 भी खर्च नहीं हो पाते थे। सुबह 9 बजे से दोपहर 2 बजे तक ही 14 संक्रमित और संदिग्ध वार्ड में आ चुके थे। इसके बाद भी मरीजों का आने का सिलसिला जारी रहा।
सिविल सर्जन का दावा... कोई कमी नहीं
ऑक्सीजन को लेकर प्रदेश के कई जिले में कमी बनी हुई है। वहीं सिविल सर्जन हर्षवर्धन जैन का दावा है कि गुना में ऐसी स्थिति नहीं है। हमने ग्वालियर में 2 प्लांट सप्लायर से अनुबंध किया हुआ है। शर्त पहले से ही तय हैं। जब भी ज़रूरत पड़ेगी वह हमें ऑक्सीजन देंगे। यहीं कारण है कि अभी पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिल रही है। अस्पताल के पास 135 सिलेंडर हैं। इसमें से 30 खाली हैं जो भरने के लिए भेजे गए हैं। वहीं स्टॉफ की कमी को लेकर भी शासन को पत्र भेजा जा चुका है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें