पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रकाश पर्व:इस बार न जुलूस निकला, न लंगर लगा, गरीबों को भोज कराया

गुना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोविड संकट के चलते इस बार प्रभात फेरियां भी नहीं निकाली गई थीं, गुरुद्वारे में अरदास हुई

कोविड संकट के चलते इस बार तमाम पर्व सादगीपूर्वक मनाए गए। इनमें गुरूनानक जयंती भी शामिल हो गई। सोमवार को सिख धर्म के इस सबसे बड़े पर्व पर कई आयोजन नहीं हो पाए। मसलन इस दिन निकाला जाने वाला जुलूस निरस्त कर दिया गया। वहीं लंगर में भी संगत (सभी आमजन) को नहीं बुलाया गया। बस गरीबों को भोजन कराकर रस्म अदायगी की गई।

पूर्व नपाध्यक्ष राजेंद्र सलूजा ने बताया कि कोविड संकट को देखते हुए हमने सारे कार्यक्रमों को बहुत छोटा कर दिया था। आमतौर पर लंगर में संगत को बुलाया जाता है। यानि पूरे शहर को आमंत्रण होता है। इस बार ऐसा नहीं किया गया। सिर्फ गरीबों को ही भोग का वितरण किया गया। जुलूस निरस्त कर ही दिया गया था। आम दिनों में प्रकाश पर्व के एक माह पहले से शहर में प्रभात फेरी निकाली जाती थीं। इस बार यह रस्म भी नहीं निभाई गई।

रात में सांस्कृतिक कार्यक्रम भी नहीं हो पाए
गुरुद्वारे में भी एक बार में सीमित संख्या में लोगों को अंदर आने दिया गया। समाज के लोगों को कहा गया था कि वे एक साथ न आकर दिनभर टुकड़ो-टुकड़ों में आएं। जिससे कि अंदर भीड़ न हो। हालांकि आराधना संबंधी सारी रस्में पूर्व की तरह ही निभाई गईं। अरदास व कीर्तन हुए। लेकिन मुख्य हॉल में कम से कम लोगों को रुकने दिया गया। गुरुद्वारे में रात को होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम भी निरस्त कर दिए गए। पूर्व नपाध्यक्ष ने बताया कि इस बार हमने सिर्फ परंपरा को जारी रखने पर जोर दिया। लोगों ने दुआ की है कि कोरोना संक्रमण से मुक्ति मिले, जिससे कि अगले साल प्रकाश पर्व पूरी धूमधाम से मनाया जा सके।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- जिस काम के लिए आप पिछले कुछ समय से प्रयासरत थे, उस कार्य के लिए कोई उचित संपर्क मिल जाएगा। बातचीत के माध्यम से आप कई मसलों का हल व समाधान खोज लेंगे। किसी जरूरतमंद मित्र की सहायता करने से आपको...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser