8 दिन बाद गुना:ग्वालियर रूट पर ट्रेन शुरू पर बाढ़ के बाद सड़कों और रेलवे ट्रैक की हालत खराब

गुना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पिछले दिनों जिले में हुई तेज बारिश के कारण गुना- बमोरी सड़क पानी के बहाव में बह गई। - Dainik Bhaskar
पिछले दिनों जिले में हुई तेज बारिश के कारण गुना- बमोरी सड़क पानी के बहाव में बह गई।
  • रेल मार्ग: पाड़रखेड़ा से मोहना तक 1 घंटे में पहुंची मालगाड़ी सड़क: एबी रोड कई जगह पर धंसी, बायपास पर रोज जाम

26 जुलाई से 7 अगस्त के बीच हुई लगातार बारिश से सड़कों को तो भारी नुकसान हुआ ही, रेल यातायात भी बुरी तरह प्रभावित हुआ। पहली बार गुना-ग्वालियर रेल रूट 8 दिन तक बंद रखा गया। सोमवार दोपहर को इसे बहाल कर दिया गया लेकिन सड़कों की स्थिति सुधरने में लंबा समय लग सकता है। गुना से बमोरी को जोड़ने वाली तीन में से दो सड़कों पर तो आवाजाही लगभग बंद है। गुना-ऊमरी-सिरसी रोड पर आवाजाही कुछ हद तक चालू है। उधर गुना-जंजाली-मधुसूदनगढ़ रोड के 13 किमी हिस्सा, जो पहले से निर्माणाधीन था, उसे इस बारिश ने और खराब कर दिया। इस दो निर्माणधीन पुलिया बह जाने की खबर है।

उधर शहर में भी सड़कों की हालत बहुत ज्यादा खराब हो गई है। मुख्य सड़क यानी एबी रोड पर कम से कम 10 से 15 जगहों पर खतरनाक गड्‌ढे बन गए हैं। शास्त्री पार्क से बैजू चौराहा तक की सड़क की ऊपरी परत पूरी तरह उखड़ गई। वहीं हाईवे पर स्थित गुना बाइपास भी खतरनाक स्थिति में पहुंच गया।

सड़कों का सर्वे करा रहे हैं

शहर में कितनी सड़कें खराब हुई है, इसका सर्वे कराया जा रहा है। इनमें से कितनी सड़कों को नए सिरे से बनवाना पड़ेगा और कितने का मरम्मत से काम चल जाएगा, यह ब्यौरा तैयार कर रहे हैं।
- तेज सिंह यादव, सीएमओ नपा।

बमोरी के तीन में से दो सड़क मार्ग अब भी बंद, मधुसूदनगढ़ के रास्ते में दो पुलिया बहीं

शहर का हाल

एबी रोड पर सबसे खतरनाक स्थिति, कॉलाेनियों की सड़कें गड्‌ढों से भरीं

एबी रोड पर कोऑपरेटिव बैंक से लेकर हनुमान चौराहे तक एबी रोड खतरनाक स्थिति में है। कई जगहों पर सड़क इतनी खतरनाक ढंग से धंस गई है कि हादसे होने की आशंका है। एक जगह पर तो बेरिकेड रखना पड़े हैं। यह सड़क उन जगहों पर खराब हुई, जहां बीते चार-माह माह के दौरान दो बार पहले ही मरम्मत हो चुकी है। उधर ओवर ब्रिज से बीजी रोड बायपास के बीच भी ऐसी ही स्थिति है। दो-तीन जगहों पर गहरे गड्‌ढे हैं। सड़क का यह हिस्सा तो हाल ही में बनाया गया था। अंदरूनी सड़कों की हालत भी खराब है।

बमोरी की राह बहुत मुश्किल

  • गुना-फतेहगढ़ रोड : इस रोड पर बरसाती नदी का रपटा पूरी तरह उखड़ गया है। वहीं भौंरा नदी सोमवार को भी पुलिया के ऊपर से बह रही थी। कम से कम 20 जगहों पर सड़क के किनारे बुरी तरह कट गए हैं। यह हाल तब है जब एक साल पहले ही सड़क को नए सिरे से बनाया गया था।
  • गुना-पाड़ोन-बमोरी रोड : इस सड़क पर भी दो रपटे बर्बाद हो गए। इस पर आवाजाही पूरी तरह से बंद हो गई है। सड़क की हालत देखते हुए लोग चिंतित हैं कि पता नहीं इसे कब तक पुरानी स्थिति में लाया जाएगा।
  • गुना-ऊमरी-सिरसी रोड : यह एकमात्र रास्ता है, जो बमोरी काे जिला मुख्यालय से जोड़ रहा है। हालांकि इस पर भी नेगमा के पास निर्माणाधीन पुलिया का डायवर्सन रोड बह गया। अब वाहन हाईवे से पाटई होकर ऊमरी जा रहे हैं।
  • जंजाली-मधुसूदनगढ़ रोड : जामनेर से मधुसूदनगढ़ के बीच 13 किमी की सड़क सबसे खराब स्थिति में है। दरअसल यह हिस्सा पहले से निर्माणाधीन था। इसमें 10 पुलिया हैं, जो अभी तक पूरी तरह नहीं बनी। आने जाने में समस्या हो रही है।

ट्रैक को चेक करने के लिए अभी धीमी रफ्तार में निकाल रहे हैं ट्रेनें

ग्वालियर-गुना रेल खंड पर पाड़रखेड़ा-मोहना के बीच 2 अगस्त को बारिश के चलते बहा रेल ट्रैक 7 बाद दुरुस्त हो गया। सोमवार को दोपहर 12.15 बजे पाडरखेड़ा से मालगाड़ी चलाई गई। यह दोपहर 1.10 बजे मोहना पहुंची। हालांकि दोनों स्टेशन के बीच की दूरी महज 13 किमी के आसपास है लेकिन पहली ट्रेन को बहुत धीमी रफ्तार से गुजारा गया, जिससे कि ट्रैक की स्थिति को देखा जा सके। इस सेक्शन पर फिलहाल कॉशन बरकरार रहेगा।

गौरतलब है कि पाडरखेड़ा-मोहना के बीच 1255/19-21 किमी पर लगभग 100 मीटर रेल ट्रैक बह चुका है। उसके बाद से गुना, शिवपुरी, ग्वालियर के इंजीनियर व कर्मचारी लगातार काम करते हुए इसे बहाल करने की कोशिश में लगे हुए थे। आठवें दिन जाकर उन्हें सफलता मिल गई। रेलवे अधिकारियों ने बताया कि 100 मीटर के हिस्से में न केवल ट्रैक बल्कि उसके नीचे का पूरा बेस भी बह गया था। इसलिए उसे पूरी तरह तैयार करने में टाइम लगा।

इंटरसिटी आज से चलेगी : मालगाड़ी के गुजरने के बाद ट्रैक को आेके कर दिया गया है। अब इस पर सभी तरह की गाड़ियों के निकलने का रास्ता साफ हो गया। हालांकि सोमवार को भोपाल इंटरसिटी नहीं चल पाई। वजह यह है कि इस ट्रेन के गुजरने के समय तक ट्रैक ओके नहीं था। यह मंगलवार से चलेगी। ट्रैक बंद रहने के दौरान कई ट्रेन बंद रखी गईं। जबकि कई को ग्वालियर-झांसी-बीना या गुना-बीना-झांसी-ग्वालियर रूट से चलाया गया।

खबरें और भी हैं...