पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समर्थन मूल्य:2. 64 लाख क्विटल से अधिक गेहूं की खरीदी की

जावर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक अप्रैल से 28 मई तक की गई गेहूं की खरीदी, पिछले साल के बराबर

जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक शाखा जावर के अंतर्गत आने वाले तीन केन्द्र मेहतवाड़ा व फुडरा समिति द्वारा समर्थन मूल्य पर इस बार गेहूं की खरीदी एक अप्रैल से शुरू की गई थी जो 28 मई तक की गई। इन केन्द्रों पर 4587 किसानों से 2 लाख 64 हजार 937 क्विंटल गेहूं खरीदी की गई है। जो पिछले साल के बराबर ही है।

सेवा सहकारी समिति के सुपरवाइजर जिनेन्द्र जैन ने बताया कि इस बार भी क्षेत्र के तीन खरीदी केन्द्र जावर, कजलास, मुरावर पर समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी की गई है। इस बार समर्थन मूल्य पर 1 अप्रैल से गेहूं की खरीदी शुरु की गई जो 28 मई तक खरीदी का काम चलता रहा।

इस बीच सेवा सहकारी समिति जावर पर 877 किसानों से 47 हजार 940 क्विंटल, सेवा सहकारी समिति कजलास पर 750 किसानों से 39 हजार 972 क्विंटल, मुरावर समिति द्वारा 764 किसानों से 50 हजार 122 क्विंटल इसी तरह मेहतवाड़ा समिति द्वारा 1561 किसानों से 90 हजार 705 क्विंटल व फुडरा समिति द्वारा 635 किसानों से 36 हजार 198 क्विंटल गेहूं खरीदा गया है। बदले में किसानों के खातों में गेहूं की राशि डालने का काम चल रहा है।

हर दस दिनाें में किसानों के खातों में भोपाल से राशि डाली जाती रही है। खरीदी केन्द्रों पर शासन के निर्देशानुसार इंतजाम किए गए थे। इस बार भी खरीदी केन्द्रों पर कई बार अव्यवस्था के चलते या फिर बारदान खत्म होने के कारण दो दिन तक खरीदी का काम बंद रहा था। ऐसी स्थिति में किसानों को काफी परेशानी भी उठानी पड़ी। इस बार किसानों ने चना व मसूर खरीदी केन्द्रों की बजाए खुले बाजार में बेचना अधिक पसन्द किया। हालांकि इस बार कोरोना संक्रमण के चलते कृषि उपज मंडियां बंद होने के कारण किसान चना मसूर ज्यादा बेच नहीं पाए हैं। वह मंडी खुलने का इंतजार कर रहे हैं। वैसे भी चने व मसूर का रेट 6 हजार के आस पास चल रहा है।

किसान राजेन्द्र सिंह का कहना है कि इस बार शासन ने चना मसूर का जो समर्थन मूल्य घोषित किया है उससे तो अधिक भाव में चना मसूर अभी खुले में बिक जाती है। क्षेत्र में चना, मसूर खरीदने के लिए तीन केन्द्र बनाए गए हैं, लेकिन इनमें से जावर केन्द्र पर ही मात्र 68 किसानों ने 1276 क्विंटल 50 किलो ही चना तुलवाया है। मसूर व सरसो तो इस बार कोई बेचने ही केन्द्र पर नहीं लाया है।

खबरें और भी हैं...