• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Kumbraj
  • In Other Areas Including Mrigwas, Lightning Came After One And A Half O'clock In The Night, After 20 Hours Due To Technical Fault.

पुरानी गल्ला मंडी सड़क पर जमा हुआ पानी:मृगवास सहित अन्य क्षेत्रों में रात डेढ़ बजे से गुल बिजली, तकनीकी खामी से 20 घंटे बाद आई

कुंभराज /मृगवास10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बारिश से निर्माणधीन सड़क पर हुआ कीचड़ सड़क खुदी होने से  आवागमन हो रहा प्रभावित। - Dainik Bhaskar
बारिश से निर्माणधीन सड़क पर हुआ कीचड़ सड़क खुदी होने से आवागमन हो रहा प्रभावित।

बुधवार शाम को मृगवास कस्बे सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में रात डेढ़ बजे से तेज बारिश के साथ ओले गिरने से बिजली व्यवस्था ध्वस्त हो गई। जो दूसरे दिन देर शाम तक गुल रही। वे मौसम बारिश के दौरान एक बार फिर क्षेत्र के लोगों को दिनभर परेशानी का सामना करना पड़ा। वैसे भी क्षेत्र के लोगों को पिछले एक पखवाड़े से बिजली समस्या का सामना करना पड़ रहा था। जिसे बुधवार हुई बारिश ने और बढ़ा दिया। मृगवास सब स्टेशन, सहित बासांहेड़ा, सानई बटावटा सहित लगभग 80 गांवों में देर रात से बिजली गुल है। लोगों का कहना है कि 17-18 घंटे ज्यादा बीत जाने के बाद बिजली गुल है। देर रात हवा के साथ तेज बारिश हुई। इस दौरान ओले भी गिरे। इसने बिजली व्यवस्था को अस्त-व्यस्त कर दिया। रात डेढ़ बजे बिजली गुल हो गई। उपभोक्ता बिजली के लिए शाम तक इंतजार करते रहे, लेकिन यह रात तक बहाल नहीं हुई। विद्युत कंपनी के दफ्तर में भी फोन लगाया, लेकिन लंबी घंटी बजने के बाद भी फोन नहीं उठा। बुधवार रात और गुरुवार दिनभर कस्बे सहित ग्रामीण इलाकों में बिजली व्यवस्था सुचारू नहीं हो पाई। क्षेत्र के उपभोक्ता ने बताया कि उन्होंने रात करीब 1 बजे लाइट नहीं होने की शिकायत के लिए विविकं के शिकायत कक्ष में फोन लगाया, लेकिन किसी ने फोन नहीं उठाया।

ग्रामीण क्षेत्रों में रात डेढ़ बजे से गुल बिजली 18-20 घंटे बाद आई बिजली, भारी बारिश और ओलों के कारण उपकरण हुए खराब।

ग्रामीण बोले-जब भी गुल होती है बिजली, हमेशा लगता है लंबा समय
ग्रामीणों ने बताया कि उन्हें पिछले एक माह से समस्या का सामना करना पड़ रहा है। इसके बाद भी तकनीकी खामी को सुधारने में लंबा वक्त लगता है। तब लंबे समय के बाद बिजली बहाल होती है। ग्रामीणों ने बताया कि कई बार मेंटनेंस के कारण बिजली कटौती बताई जाती है। पर ऐसा लगता है कि करोड़ों के मेंटनेंस के कार्य भी कागजों पर होते हैं। क्योंकि आए दिन कस्बे में सामान्य दिनों में बिजली केबल जल जाती हैं।

बारिश से इंसुलेटर को पहुंचा नुकसान
इस संबंध में बिजली कंपनी के कर्मचारियों ने बताया कि बारिश के साथ ओले गिरे थे। ओलो ने चीनी के इंसुलेटर आदि को काफी नुकसान पहुंचाया। इसलिए बिजली व्यवस्था शाम तक बहाल नहीं हो पाई है।

बारिश से निर्माणाधीन सड़क से वाहन बड़ी मुश्किल से निकले
बमोरी| बमाेरी रोड पर परवाह तिराहे से परवाह गांव तक बन रही रोड निर्माण के चलते खोदी गई है। जिससे बारिश होने पर यहां कीचड़ हो गया है। जिससे ग्रामीणों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि पुरानी सड़क पुरानी सड़क को उखाड़ दी गई है। सड़क के दोनों ओर चौड़ाई बढ़ाने के लिए गड्ढे खोदकर उसपर मिट्टी और मुरूम भरने का काम किया जा रहा है। पूरी सड़क चौड़ी कच्ची सड़क में तब्दील है। अब बारिश होने से इस कच्ची सड़क पर कीचड़ हो गया है। उसके साथ ही मोड़ पर कीचड़ के ऊपर से पार करना चार पहिया व दोपहिया वाहन सवारों के लिए बड़ी चुनौती साबित हो रही है। कीचड़ भरे होने से मोड़ते वक्त वाहन के पहिए फिसल रहे हैं। चारपहिया वाहनों को भी साइड से निकलने की जगह नहीं मिल रही है। दूसरे टर्न में स्थान पर सड़क बेहद संकरी हो गई है। वाहन चालकों को यहां वाहन खड़े कर एक वाहन के मुड़ने का इंतजार करना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...