खरीदी केंद्रों पर समिति प्रबंधकों की मनमानी / 16 केन्द्रों का 3 हजार क्विंटल गेहूं किया वापस नादनखेड़ी और गदुली समिति की 4 गाड़ी रोकीं

X

  • माल रिजेक्ट हुआ तो जिम्मेदारी समिति प्रबंधक की होगी, परिवहन का खर्चा भी उनसे ही वसूलेंगे

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

मुंगावली. लगातार घटिया गेहूं की मिल रही शिकायतों के बाद 16 केंद्रों की 15 गाड़ियों का 3 हजार क्विंटल गेहूं वापस किया है। नादनखेड़ी और गदुली समिति की 4 गाड़ियों को निराकरण के लिए रोका है। शिकायतों के बाद प्रशासन ने जांच की जिससे गड़बड़ी सामने आई है।
समिति प्रबंधकों ने गेहूं खरीदी में क्वालिटी का कोई ध्यान नहीं रखा और केंद्र पर अपने हिसाब से गेहूं की खरीदी की। इसमें घटिया गेहूं की खरीदी हो गई। जहां डोंगरा क्रमांक 2 पर मिट्टी मिला गेहूं केंद्र पर रखा था तो वहीं कुछ दिनों पहले मंडी में बने नादनखेड़ी केंद्र पर 72 क्विंटल गेहूं को घटिया पाया गया था जिसको मौके पर ही वेयर हाउस ने रिजेक्ट किया था।

इससे अनुमान लगाया जा सकता था कि इस बार खरीदी केंद्रों पर समिति प्रबंधकों की मनमानी के चलते सरकार को चुना लगाया है। जिला नागरिक आपूर्ति आरएस सोलंकी ने बताया कि गेहूं रिजेक्ट किया है। भंडारण पर्याप्त होने से अब माल बाहर भेजा जाएगा और यदि वहां किसी भी समिति प्रबंधक का माल रिजेक्ट होता है तो उसकी जिम्मेदारी समिति प्रबंधक की होगी। परिवहन का ख़र्चा भी समिति प्रबंधक से ही लिया जाएगा। उनका मानना है कि की शिकायतें मुंगावली से ज्यादा मिली हैं।
निगरानी पर उठे सवाल
इस कार्रवाई से समर्थन मूल्य के उपज खरीदी केन्द्रों पर की जा रही निगरानी पर सवाल खड़े हो गए हैं। क्योंकि अधिकारियों ने लगातार ख़रीदी केंद्रों का निरीक्षण किया था मगर इन केंद्रों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। इससे इस तरह के हालात बने यदि तुरंत ही घटिया गेहूं पर कार्रवाई की जाती तो इस तरह के हालात नहीं बनते।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना