हादसा:घटनास्थल से 600 मीटर दूर एक चट्‌टान में फंसा मिला नर्मदा में बहे युवक का शव

नसरुल्लागंजएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • ग्राम छीपानेर में दो चचेरे भाई निर्माणाधीन पुल के पिलर के सहारे नर्मदा नदी पार करते समय बह गए थे।

नसरुल्लागंज के नीलकंठ घाट पर दो बालकों की डूबने से मौत के बाद शुक्रवार को गोपालपुर थाने के तहत ग्राम छीपानेर में दो चचेरे भाई निर्माणाधीन पुल के पिलर के सहारे नर्मदा नदी पार करते समय बह गए थे। इस बीच एक भाई तो उस पार पहुंच गया लेकिन दूसरा तेज धार में बह गया था। उसकी तभी से तलाश की जा रही थी। बाद में  एसडीआरएफ की टीम ने इसे शनिवार को निकाला।  छीपानेर निवासी दोनों चचेरे भाई रिश्तेदारी में एक गमी कार्यक्रम में शामिल होने के बाद वापस घर लौट रहे थे। इस दौरान नर्मदा नदी को पार करने की कोशिश की। बताया जाता है कि इनमें से पवन अटरिया तो किनारे पर लग गया लेकिन दीपक अटरिया  20 वर्ष नर्मदा नदी की तेज धार में बह गया। बीच नदी में बहाव अधिक था। जिससे वह संभल नही पाया और उसका संतुलन बिगड़ गया। तेज बहाव के चलते वह नर्मदा की धार में बह गया। इस दौरान सूचना के बाद प्रशासनिक अमला मौके पर पहुंचा और स्थानीय गोताखोरों की मदद से देर रात तक युवक की तलाश की गई, लेकिन सफलता नहीं मिलने पर पुलिस ने भोपाल से एसडीआरएफ की स्पेशल टीम को बुलाया। शनिवार सुबह एसडीआरएफ टीम ने सर्च ऑपरेशन चलाया। बताया जाता है कि करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद नर्मदा नदी से दीपक के शव को तलाश कर लिया गया। जिस  जगह से युवक बहा था वहां से करीब 600 मीटर दूर एक चट्‌टान में इसका शव फंसा हुआ मिला।       एसडीआरएफ को मिली सफलता : शुक्रवार को दो चचेरे भाई की नर्मदा के तेज बहाव में बह गए थे। वही एक युवक तो बच गया लेकिन दूसरे युवक की तलाश जारी थी। लेकिन कोई कामयाबी नही मिली। राजस्व अमला सहित एसडीओपी प्रकाश मिश्रा, गोपालपुर थाना प्रभारी उषा मरावी ने पूरे घटना क्रम पर नजर बनाए रखी। इसके बाद एसडीआरएफ की टीम को बुलाया गया टीम ने युवक के शव को ढूंढ निकाला।

खबरें और भी हैं...