पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शिक्षक का योगदान:शासकीय और अशासकीय शिक्षण संस्थाओं में कार्यक्रम के आयोजन किए गए

नसरूल्लागंज16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • विद्यार्थी के जीवन में शिक्षक का योगदान अहम

डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म दिवस के मौके पर शासकीय और अशासकीय शिक्षण संस्थाओं में कार्यक्रम के आयोजन किए गए। इस दौरान कई शिष्यों के द्वारा अपने गुरुओं का सम्मान साल-श्रीफल भेंट कर किया गया। नगर के उत्कृष्ट विद्यालय सहित शास्त्री स्मृति विद्या मंदिर, शारदा विद्या मंदिर, ज्ञान दीप विद्या मंदिर, न्यू ब्राइट करियर स्कूल, तरूण पुष्प हायर सेकंडरी स्कूल, विद्या सागर अकादमी, शुभम कान्वेंट, वैष्णव विद्या मंदिर, वीणांचल स्कूल, नीलकमल शिक्षा निकेतन में आयोजन हुए। इस दौरान विद्यार्थियों ने अपने शिक्षकों का सम्मान किया। सभी शासकीय व अशासकीय शिक्षण संस्थाओं के संचालकों ने बताया कि एक शिक्षक का छात्र के जीवन में खास महत्व होता है।

माता पिता बच्चे को जन्म देते हैं तो उन्हें पहला गुरू माना जाता है लेकिन इस दुनिया में संस्कार देने के साथ ही समाज में जीवन जीने का रास्ता एक शिक्षक ही बताता है। इसलिए दूसरे स्थान पर शिक्षक का नाम आता है। विद्यार्थियों को अपने गुरुओं का सम्मान निरंतर करना चाहिए। जो मुकाम विद्यार्थी जीवन में वह हासिल करता है उसमें सबसे बड़ा योगदान एक शिक्षक का होता है। शिक्षक कभी भी अपने शिष्यों पर धन, दौलत नहीं लुटाता लेकिन संस्कार का वह बीज उसके अंदर रोपता है जो उसके जीवन की सबसे बड़ी दौलत होती है।

इसी संस्कार के सहारे एक विद्यार्थी अपने जीवन में यश, कीर्ति, दौलत हासिल करता है। इस लिए विद्यार्थी के जीवन में शिक्षक का अहम योगदान होता है। नगर के शारदा विद्या मंदिर में शिक्षा दिवस के मौके पर एडवोकेट पुनीत यादव एवं युवा नेता गोविंद राजपूत ने संचालक गौरीशंकर यादव का शाल-श्रीफल भेंट कर सम्मान किया। शास्त्री स्मृति विद्या मंदिर में आयोजन के दौरान डा.सर्वपल्ली राधाकृष्ण के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें याद किया गया।

खबरें और भी हैं...