पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

घटवाई के सब्जी उत्पादक है किसान:कर्ज न लेना पड़े, इसलिए किसान ने 2 माह में 25 हजार खर्च कर बनाया 2 पहिए का ट्रैक्टर

नटेरन16 दिन पहलेलेखक: नीलम रघुवंशी
  • कॉपी लिंक
उम्र 55 साल, काम युवाओं से कम नहीं। - Dainik Bhaskar
उम्र 55 साल, काम युवाओं से कम नहीं।
  • खासियत... 1 बीघा जमीन की हकाई करने में मात्र 3 घंटे लगते हैं, डेढ़ लीटर डीजल की होती है खपत

तहसील के घटवाई गांव के विजयसिंह रघुवंशी 4 बीघा के किसान हैं। खेती करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरत ट्रैक्टर की होती है। महंगाई के इस दौर में छोटे से छोटे ट्रैक्टर की कीमत लगभग 2 लाख से शुरू होती है जो उनके लिए खरीदना मुश्किल था। साथ ही वे कर्ज नहीं लेना चाहते थे। इसलिए उन्होंने कम लागत में घर पर ही दो पहिया का ट्रैक्टर बना लिया। इस काम में सिर्फ 25 हजार रुपए का खर्च आया।

वे अब इस ट्रैक्टर की मदद से सब्जी उत्पादन कर रहे हैं। ये ट्रैक्टर ऑटो के इंजन से बनाया है जिससे हकाई, जुताई और मिट्टी पलटने का काम आसानी से हो जाता है। दिलचस्प बात ये है कि विजयसिंह की उम्र 55 साल है लेकिन वे अपना काम युवाओं की तरह करते हैं।

3 पहिए का पैसेंजर ऑटो का इंजन कबाड़ से खरीदकर लगाया, चेसिस खुद ने ही बनाया

जुगाड़ का ट्रैक्टर बनाने में किसान को 2 महीने का समय लगा। वे बताते हैं कि इस ट्रैक्टर से 1 बीघा जमीन की हकाई करने में मात्र 3 घंटे लगते है और उसमें डीजल की खपत कम से कम आती है। 3 घंटे में ट्रैक्टर डेढ़ लीटर डीजल की खपत करता है। ट्रैक्टर में तीन पहिए का पैसेंजर ऑटो का इंजन लगाया गया है। वे बताते हैं कि कबाड़ से इंजन खरीदा ओर मैकेनिक से चालू योग्य बनवाया। इसके बाद खुद ने चेसिस बनाया और ओर उस पर इंजन को सेट किया गया।

लौकी, मिर्ची, टमाटर की खेती की
सब्जी उत्पादन करने के लिए पहली साल विजय सिंह ने टमाटर, लौकी, मिर्ची की खेती की। पहली साल विजय सिंह को टमाटर की कीमत कम मिलने से कुछ खास मुनाफा तो नही हुआ। अब ट्रैक्टर की वजह से लागत कम आ रही है। वहीं मिर्ची 200 रुपए किलो के भाव से बिक रही है। विजय सिंह को एक लाख पचास हजार रुपए का मुनाफा हुआ है। उनका कहना है कि छोटे किसान सब्जी उत्पादन करने के लाभ कमा सकते हैं।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...