पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ब्लैक फंगस:भोपाल में सर्जरी के लिए 10 दिन से 72 घंटे की वेटिंग, इंजेक्शन लेने 35 किमी की दौड़

भोपाल24 दिन पहलेलेखक: विवेक राजपूत
  • कॉपी लिंक
तस्वीर हमीदिया अस्पताल की है। यहां के ईएनटी डिपार्टमेंट में ब्लैक फंगस के रोज 5-6 ऑपरेशन हो रहे हैं। - Dainik Bhaskar
तस्वीर हमीदिया अस्पताल की है। यहां के ईएनटी डिपार्टमेंट में ब्लैक फंगस के रोज 5-6 ऑपरेशन हो रहे हैं।
  • ब्लैक फंगस : जयपुर और चंडीगढ़ मॉडल से सीखे भोपाल

ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या और मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही है। ऑपरेशन के लिए पिछले 10 दिनों से 3 दिन यानी 72 घंटे की वेटिंग जारी है। और इसके इलाज में लगने वाले इंजेक्शन एंफोटेरिसिन-बी के लिए परिवारवालों को 30 से 35 किलोमीटर का चक्कर लगाना पड़ता है। एक इंजेक्शन मिलने के लिए उन्हें सरकारी कायदे कानून मानते 17-17 घंटे का वक्त लग जाता है।

हमीदिया अस्पताल में 90 बेड की जगह है जबकि 120 मरीज भर्ती हैं। इनमें से 35 से ज्यादा मरीजों के ऑपरेशन होने हैं। 15 मरीज तो ऐसे हैं जिनकी कोरोना रिपोर्ट भी निगेटिव आ चुकी है। ब्लैक फंगस टास्क फोर्स के सदस्य ईएनटी सर्जन डॉ. एसपी दुबे के मुताबिक अगर मप्र में भी मैराथन ऑपरेशन किए जाएं तो शहर के प्राइवेट ईएनटी सर्जन मदद को तैयार हैं। ऐसे में भोपाल में अगर जयपुर और चंडीगढ़ के मॉडल को अपनाया जाए तो काफी मदद मिल सकती है।

ब्लैक फंगस : जयपुर और चंडीगढ़ मॉडल से सीखे भोपाल

जयपुर; ईएनटी सर्जन की टीम ने 60 घंटे में 50 मरीजों के आॅपरेशन किए

जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में ईएनटी सर्जन की टीम ने 60 घंटे में ब्लैक फंगस के 50 मरीजों के ऑपरेशन किए। इसका फायदा यह हुआ कि समय पर ऑपरेशन होने से संक्रमण के बढ़ने का खतरा टल गया। और शहर में ब्लैक फंगस के मरीजों के ऑपरेशन की वेटिंग 60 घंटे में ही खत्म हो गई। यहां शनिवार तक ब्लैक फंगस के 500 केस मिले हैं।

चंडीगढ़; ऑपरेशन किसी भी प्राइवेट जगह पर हो, सभी का बाकी इलाज पीजीआई में ही

चंडीगढ़ में ब्लैक फंगस के मरीज का ऑपरेशन किसी भी निजी अस्पताल में हो उसे आगे की देखरेख के लिए पीजीआई चंडीगढ़ में भर्ती किया जाता है। इसका फायदा यह होता है कि मरीज को इम्फोटेरेसिम बी इंजेक्शन समेत दूसरी महंगी दवाइयां नि:शुल्क और बिना किसी भागदौड़ के उसी अस्पताल में मिल जाती हैं। यहां शनिवार तक ब्लैक फंगस के 176 केस मिले हैं।

एक की मौत, 21 ठीक हुए

शनिवार को भोपाल में ब्लैक फंगस के 14 नए मरीज मिले हैं। इनमें पांच हमीदिया में भर्ती हुए हैं, बाकी प्राइवेट अस्पतालों में। एक मरीज की मौत भी हुई। हमीदिया में छह और बाकी जगह 11 मरीजों की सर्जरी हुई हैं।

  • 14 नए मरीज मिल 00
  • 21 ठीक होकर घर गए
  • 11 ऑपरेशन किए गए
  • 210 कुल मरीज

2300 इंजेक्शन पहुंचे, 3850 आज आएंगे
ब्लैक फंगस के इलाज के लिए जरूरी 2300 एंफोटेरिसिन बी इंजेक्शन शनिवार को भोपाल आए। रविवार को 3850 और आएंगे। इसके अलावा 12000 टैबलेट भी आई हैं। अब तक मप्र को 13514 एंफोटेरिसिन बी इंजेक्शन मिल चुके हैं।

कोरोना अपडेट; 24 जिलों में संक्रमित जीरो से 10 के बीच में

प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से गिरावट का दौर जारी है। शनिवार को पॉजिटिविटी रेट 2.1 प्रतिशत पर आ गया। इसी के साथ 24 जिले ऐसे भी हैं जहां संक्रमितों की संख्या शून्य से दस तक है। डिंडोरी में एक भी केस नहीं मिला। इसी तरह बुरहानपुर, आगर मालवा, खंडवा, कटनी में एक-एक पॉजिटिव केस मिले हैं।

भोपाल में 7561 एक्टिव केस

  • मप्र में एक्टिव केस 30,899 हाे गए हैं जबकि 11 मई काे यह 1 लाख 13 हजार 366 हो गए थे
  • 18 दिन में एक्टिव केस की संख्या में 73 फीसदी की गिरावट आई है।
  • भोपाल में सबसे ज्यादा 7561, इंदौर में 5207 एक्टिव केस हैं।
  • साढ़े पांच हजार लोग होम आइसोलेशन में हैं।
खबरें और भी हैं...