पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सायबर क्राइम:ओटीपी पूछकर 28 बार में भेल के रिटायर्ड अधिकारी के खाते से निकाले 10.40 लाख

भोपाल7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • खुद को एसबीआई की मुंबई ब्रांच का मैनेजर बताया

केवाईसी अपडेट करने के नाम पर जालसाजों ने भेल के रिटायर्ड डिप्टी मैनेजर को 10.40 लाख की चपत लगा दी। जालसाजों ने केवाईसी अपडेट कराने का मैसेज भेजकर वारदात को अंजाम दिया। मैसेज में लिखा था कि तत्काल दिए गए नंबर पर संपर्क करें। जब उन्होंने काॅल किया तो आरोपी ने खुद को एसबीआई की मुंबई स्थित मुख्य शाखा का मैनेजर बताया था। कहा था कि जानकारी नहीं दी तो खातों को बंद कर दिया जाएगा। झांसे में आए वृद्ध से जालसाजों ने ओटीपी पूछ-पूछकर 28 बार में दो अलग-अलग खातों से रकम निकाल ली।

एएसपी अंकित जायसवाल के मुताबिक सी सेक्टर इंद्रपुरी निवासी देवनाथ पाठक भेल के रिटायर डिप्टी मैनेजर हैं। उन्होंने बताया कि एसबीआई तथा एक अन्य बैंक में उनके दो सेविंग अकाउंट हैं। शुक्रवार दोपहर को उनके पास मैसेज आया था। इसमें केवाईसी अपडेट कराने अन्यथा अकाउंट को बंद करने की बात लिखी थी। उन्होंने कॉल कर संपर्क किया। आरोपी ने मुंबई स्थित एसबीआई की मुख्य ब्रांच का स्वयं को मैनेजर बताते हुए अपना नाम अमर श्रीवास्तव बताया था।

मैनिट के प्रोफेसर के खाते से निकाले एक लाख रुपए

जालसाज ने मैनिट की प्रोफेसर डॉ. अरुणा सक्सेना के खाते से एक लाख रुपए निकाल लिए। डीएचएल कुरियर से उन्हें डिलीवरी मिलनी थी। दस दिन बाद भी डिलीवरी नहीं मिली तो उन्होंने कंपनी के भोपाल ऑफिस में कॉल किया। यहां से मिले एक नंबर पर उनसे कहा गया कि दस रुपए का रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। रजिस्ट्रेशन कराने के बाद उनके साथ ठगी हो गई।

हवलदार को लगाई चपत
बिलखिरिया पुलिस के मुताबिक कान्हासैैंया स्थित सीएपीटी बैरक के हवलदार देवेंद्र सिंह के खाते से जालसाज ने 25 हजार उड़ा लिए। जालसाज ने खुद को रिश्तेदार बताया था। जालसाज ने यकीन दिलाने मोबाइल पर पीडीएफ फाइल में अन्य रिश्तेदारों की फोटो भेजने का झांसा दिया। लिंक खोलते ही हवलदार के खाते से रकम कट गई।

खबरें और भी हैं...