वैक्सीनेशन अभियान:एक साल में 20 लाख गर्भवती महिलाओं को लगेगा टीका, प्रदेश में इस साल 9 लाख गर्भवती महिलाओं काे कोरोना का टीका लगाने का लक्ष्य, इसी महीने शुरुआत

भोपाल7 महीने पहलेलेखक: अजय वर्मा
  • कॉपी लिंक
गर्भवती महिलाओं की सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य विभाग एक विशेष अभियान चलाएगा - Dainik Bhaskar
गर्भवती महिलाओं की सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य विभाग एक विशेष अभियान चलाएगा
  • जगह-जगह बनेंगे पिंक बूथ, ऑनस्पॉट रजिस्ट्रेशन हो सकेगा

काेराेना संक्रमण से गर्भवती महिलाओं काे सुरक्षित रखना आज भी चुनाैती है। इसी से निपटने के लिए मप्र का स्वास्थ्य विभाग एक विशेष अभियान इसी महीने से शुरू कर रहा है। इसके तहत प्रदेश में एक साल में 20 लाख गर्भवती महिलाओं काे काेराेना टीका लगाया जाएगा। इनके लिए अलग से पिंक बूथ बनाए जाएंगे, जहां ऑनस्पाॅट रजिस्ट्रेशन हाेगा। टीका लगवाने के लिए इन महिलाओं काे 20 दिन स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में रहना हाेगा।

काेई तकलीफ हाेती है ताे वे 104 हेल्थ हेल्पलाइन नंबर पर सूचना देंगी। विभाग के अफसराें का कहना है कि काेराेना वैक्सीन गर्भवती महिलाओं के लिए पूरी तरह सुरक्षित है। हाल ही में केंद्र सरकार ने इन्हें टीका लगाने की अनुमति दी है। विभाग के अफसरों का कहना है कि प्रदेश में हर महीने 1.66 लाख गर्भवती महिलाएं नियमित वैक्सीनेशन में शामिल होती हैं।

यह संख्या हर साल बढ़ रही है। इस लिहाज से एक साल में 20 लाख नई गर्भवती महिलाओं को कोरोना टीका लगाना पड़ सकता है। लेकिन, इसके लिए उन्हें तय नियमित वैक्सीनेशन में शामिल करने की कोई योजना नहीं है। 18 लाख ऐसी महिलाएं हैं, जिनके हाल ही में बच्चे हुए हैं। उन्हें भी टीका लगेगा। जिन्हें पहले दोनों डोज लग चुके हैं, सिर्फ उन्हें छूट रहेगी।

जिन्होंने प्रेंग्नेंसी से पहले दोनों डोज लगवा लिए, उन्हें दोबारा टीका नहीं लगाया जाएगा

  • क्या इन्हें टीका लगने के बाद कोरोना नहीं होगा?

काेराेना पहले बुजुर्गाें, फिर युवाओं में ज्यादा हुआ। अब आशंका है कि ये बच्चाें में फैल सकता है। यह डब्ल्यूएचओ ने माना है कि संक्रमण से गर्भवतियाें काे ज्यादा परेशानी हुई है। कई मामलाें में ताे माैत तक हुई। चूंकि इन महिलाओं का विदेश में टीकाकरण हुआ है। इसलिए अब भारत में इसे मंजूरी दी गई।

  • कौन सी वैक्सीन गर्भवती महिलाओं को लगाई जाएगी?

कोवैैक्सीन, कोविशील्ड,स्पूतनिक तीनों में से कोई भी लगवा सकते हैं।

  • कैसे लगेगी वैक्सीन, महिलाओं को जानकारी कैसे मिलेगी?

गर्भवती महिलाएं सरकार के उच्च प्राथमिकता वाले ग्रुप हैं। उन्हें विशेष दर्जा दिया जाएगा। शहर में उनके लिए विशेष पिंक बूथ बनेंगे। उन्हें टीका लगवाने की सूचना आंगनवाड़ी कार्यकर्ता देंगी। विशेष बूथाें के अलावा यदि ये महिलाएं कहीं और टीका लगवाती हैं ताे उन्हें पुरुषाें के साथ लाइन में नहीं लगने दिया जाएगा। ऑनस्पाॅट रजिस्ट्रेशन हाेगा।

  • कौन से दिन इनको टीका लगाया जाएगा?

अभी ये तय नहीं हो पाया कि इनको किस दिन टीका लगाया जाएगा। इस पर मंथन चल रहा है।

  • टीका सरकारी और प्राइवेट सेंटर पर क्या लगवा पाएंगे?

जी। अभी टीकाकरण के लिए 20 प्राइवेट अस्पताल रजिस्टर्ड हैं। जहां भी टीका लगेगा, वहां निगरानी व्यवस्था काे बेहतर रखेंगे, ताकि कोई भी एडवर्स इवेंट होने पर उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती कराया जा सके। इन महिलाओं के घर का पता, पूरी जानकारी रखी जाएगी, ताकि इनसे संपर्क रखा जा सके।

  • गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन से क्या फायदा होगा?

राेग प्रतिराेधक क्षमता कम नहीं हाेगी। गर्भ में पल रहा शिशु भी सुरक्षित रहेगा।

  • क्या सावधानी करना जरूरी है?

टीकाकरण के बाद 20 दिन में यदि कोई तकलीफ होती है तो तत्काल सूचना देनी हाेगी। विशेषज्ञ डाॅक्टर आपकी समस्या सुलझाएंगे। स्थिति के हिसाब से आपको 108 एंबुलेंस के माध्यम से पास के अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा।