• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • 20 Ponds Around The City Will Now Be Handed Over To Women; Fish Farming, Makhana Singadar Will Be Cultivated

भास्कर खास:शहर के आसपास के 20 तालाब अब होंगे महिलाओं के हवाले; मछली पालन, मखाने-सिंघाड़े की होगी खेती

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल जिले की करीब 36 हजार महिलाओं को मिलेगा रोजगार। - Dainik Bhaskar
भोपाल जिले की करीब 36 हजार महिलाओं को मिलेगा रोजगार।

शहर से सटे गांवों में बने 20 तालाबों को महिलाओं के हवाले होंगे। इन तालाबों में मछली पालन, मखाने और सिंघाड़े की खेती होगी। 187 पंचायतों के 12 तालाबों में मछली पालन होगा। 8 तालाबों में सिंघाड़े और मखाने की खेती होगी। इन तालाबों में अभी अवैध तरीके से मछलीपालन हो रहा है। इससे विवाद की स्थिति बनती है।

नई व्यवस्था के बाद 36 हजार महिलाओं को रोजगार मिलेगा। इससे उनकी सालाना आय में बढ़ोतरी होगी। जिला प्रशासन और जिला पंचायत इसके लिए लोकल मार्केट उपलब्ध कराएगा। जिला पंचायत विभाग के अफसरों ने बताया कि भोपाल में 700 से 800 छोटे-बड़े मछली विक्रेता हैं। ये शहर के बाहर से मछली खरीदकर लाते हैं। बहुत सारे ऐसे विक्रेता भी हैं जो शहर के तालाबों की मछली खरीदकर बेचने काम करते हैं।

कोरोना के दौरान में मछली की खरीदी-बिक्री तेजी से बढ़ी है। इसके दाम भी अच्छे से मार्केट में मिल रहे हैं। यहां पर विभिन्न प्रकार की मछली पालन किया जाएगा। मछली पालन के साथ बैरसिया के 8 तालाबों में सिंघाड़े और मखाने की खेती होगी। ये काम भी इसी के साथ शुरू होगा।

अफसरों ने बताया कि सबसे पहले फंदा के 3 तालाब और बैरसिया के 9 तालाबों में मछली पालन शुरू होगा। तालाबों में इसके लिए स्पेशल केज लगाए जाएंगे। मत्स्य विभाग इसकी ट्रेनिंग महिलाओं को देगा। साथ ही इसका मार्केट उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी भी इसी विभाग के पास होगी। किस मछली की डिमांड ज्यादा है इसकी जानकारी भी दी जाएगी।

हकीकत यह भी- अभी तक समूह की महिलाएं लाखों कमा चुकी

जिला पंचायत सीईओ मिश्रा ने बताया कि विभिन्न प्रकार के प्रोडक्ट महिलाओं द्वारा बनाए जा रहे हैं। इनको त्यौहारी सीजन पर लांच किया जाता है। कई प्रोडक्ट ऐसे हैं, जिनकी डिमांड सबसे ज्यादा रही। इन प्रोडक्ट को बेचकर महिलाओं को लाखों रुपए की आय हुई है। महिलाओं के प्रोडक्ट को बेचने के लिए मार्केट उपलब्ध कराया जा रहा है।

महिलाओं को रोजगार के लिए परेशान न होना पड़े, इसके लिए उनको नए-नए होने वाले प्रयोगों से जोड़ा जा रहा है। हमारी कोशिश है कि महिलाओं को उनके घर के पास ही ऐसा कोई रोजगार मिल सके।
अविनाश लवानिया, कलेक्टर

खबरें और भी हैं...