पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • 550 Players From 15 Academies Reside At TT Nagar Stadium; Sent Everyone Home, Now Shooter Sunidhi Preparing For The Olympics Alone

उम्मीद है जल्द खत्म होगा कोरोना:टीटी नगर स्टेडियम में रहते हैं 15 अकादमियों के 550 खिलाड़ी; सबको घर भेजा, अब वहां अकेले ओलिंपिक की तैयारी कर रहीं शूटर सुनिधि

भोपालएक महीने पहलेलेखक: रामकृष्ण यदुवंशी
  • कॉपी लिंक
खेल- शूटिंग : इवेंट- 50 मीटर राइफल थ्री पाेजीशन वूमन - Dainik Bhaskar
खेल- शूटिंग : इवेंट- 50 मीटर राइफल थ्री पाेजीशन वूमन
  • कोरोना संक्रमण का खौफ नहीं, महिला शूटर ने कहा- मौका मिला तो देश के लिए मेडल जरूर जीतूंगी

आम दिनों में शहर के टीटी नगर स्टेडियम में 1000 से 1500 खिलाड़ियों की चहल-पहल बनी रहती है। 15 खेल अकादमियाें के करीब 550 खिलाड़ी स्टेडियम में रहकर प्रैक्टिस करते हैं। लॉकडाउन के कारण सभी खिलाड़ी या तो अपने घर जा चुके हैं, या उन्हें घर भेज दिया गया है। लेकिन सिर्फ एक खिलाड़ी (शूटर) है सुनिधि चाैहान, जो ओलिंपिक की तैयारी में जुटी है। पूरे स्टेडियम में अकेले रहती हैं और रोज सुबह-शाम प्रैक्टिस करती हैं। सुनिधि का कहना है यहीं रहूंगी और प्रैक्टिस करूंगी। कई मैडल जीतना है, टाेक्याे ओलिंपिक में देश के लिए सोना भी लाना है।’

ऐसा है शेड्यूल... सुबह 6:30 बजे शूटिंग अकादमी में प्रैक्टिस, शाम को स्टेडियम में ही करती हैं वर्कआउट

सुनिधि कहती हैं कि पूरे स्टेडियम में अकेली हूं। सूनापन तो लगता है, लेकिन देश सर्वोपरि है। आगे कई बड़े टूर्नामेंट आ रहे हैं। उन्हीं की तैयारी में जुटी हूं। ओलिंपिक की रिजर्व टीम में हूं। उम्मीद है मुझे खेलने का मौका मिलेगा। यदि मिला तो देश के लिए स्वर्ण पदक जरूर जीतकर लाऊंगी।

उम्मीद है कोरोना का खौफ जल्द खत्म होगा और स्टेडियम पहले की तरह खिलाड़ियों से भरा होगा। सुनिधि को अपनी साथी खिलाड़ी चिंकी यादव का साथ मिलता है। दोनों सुबह 6:30 बजे शूटिंग अकादमी के लिए निकलती हैं। वहां 7:45 से ट्रेनिंग शुरू हाेती है जाे दोपहर 12 बजे तक चलती है। इसके बाद दाेनाें काेच के साथ स्टेडियम लाैटती हैं। शाम काे स्टेडियम में ही वर्कआउट करती हैं। चिंकी भी टाेक्याे ओलिंपिक की रिजर्व टीम में चु़नी गई हैं। वह अपने परिवार के साथ स्टेडियम परिसर में ही रहती हैं।

तीन साल पहले शुरू की शूटिंग

सुनिधि ने तीन साल पहले ही शूटिंग शुरू की है। इस दौरान देश के लिए पदक जीतते हुए ओलिंपिक टीम में चुने जाने तक का सफर तय कर लिया है। 2016 में एनसीसी कैंप में पहली बार बंदूक हाथ में ली थी। वहां 15-15 निशाने लगाने काे मिले थे। उसमें सटीक निशाने लगे ताे रुचि और बढ़ गई। मावलंकर टूर्नामेंट के लिए क्वालिफाई हाे गई। तभी 2017 में अकादमी में प्रवेश के लिए ट्रायल दे दिया। अकादमी में चुन ली गई और आज टीम इंडिया की सदस्य हूं।

आज नहीं ताे कल ओलिंपिक का सपना पूरा हाेगा: चिंकी

​​​​​​​देश काे 25 मीटर स्पाेटर्स पिस्टल में ओलिंपिक काेटा दिलाने के बाद वर्ल्ड कप में बैक-टृू बैक दाे गाेल्ड जीतने के बावजूद चिंकी यादव ओलंपिक की रिजर्व टीम में जगह पा सकी है। लेकिन वह हिम्मत नहीं हारी हैं। वह दाेगुने उत्साह के साथ कहती हैं कि आज नहीं ताे कल मेरा ओलिंपिक का सपना पूरा हाेगा। मैं नहीं जानती कि मेरा चयन क्याें नहीं हुआ। इतना जानती हूं कि मुझे और मेहनत करना है।

खबरें और भी हैं...